रायपुर। Corona Vaccination: पूर्व में कोरोना के विरुद्ध प्रारंभ हुई जंग में बिना वैक्सीन के केवल कोरोना अनुकूल व्यवहार परिवर्तन कर डॉक्टरों ने कोरोना पीड़ितों का इलाज कर अपनी भूमिका साबित की थी। ठीक इसी तरह इन दिनों कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर लोगों के मन में विश्वास कायम करने के लिये हेल्थ केयर वर्कर्स के रूप में डॉक्टर फिर से अपनी भूमिका साबित कर रहें हैं।

विगत सप्ताह 16 जनवरी को शुरू हुए कोरोना टीकाकरण अभियान की शुरूआत के साथ ही वरिष्ठ डॉक्टरों ने तत्परता से कोरोना का टीका लगवाकर आम जनों के समक्ष साहस एवं विश्वास की नई मिसाल कायम की है। इसी क्रम में डीकेएस पोस्ट ग्रेजुएट रिसर्च इंस्टीट्यूट की चिकित्सा अधीक्षक डॉ. शिप्रा शर्मा एवं अम्बेडकर अस्पताल में सर्जरी विभागाध्यक्ष डॉ. मंजू सिंह ने कोरोना का टीका लगवाया।

डॉ. शिप्रा शर्मा टीकाकरण के माध्यम से लोगों को संदेश देती हैं कि जब आप बीमार होते हैं, तो आपका पूरा परिवार जोखिम के दायरे में होता है। वहीं, जब आप टीका लगवाते हैं तो आप अपनी और पूरे परिवार की सुरक्षा करते हैं। आपके द्वारा लगवाए गए कोरोना के एक टीका की वजह से पूरे समुदाय में कोरोना के प्रसार का जोखिम कम हो सकता है। डॉ. शिप्रा शर्मा कहती हैं कि आप सुरक्षित, तो परिवार सुरक्षित।

सर्जरी विभागाध्यक्ष डॉ. मंजू सिंह कहती हैं कि टीके आपके समग्र स्वास्थ्य के लिए उतने ही महत्वपूर्ण हैं, जितना आहार। कोरोना से बचाने वाले इस टीके का कोई साइड इफेक्ट नहीं है। कोरोना टीका लगवाने के बाद 30 मिनट के ऑब्जर्वेशन के बाद मैंने अस्पताल जाकर मरीजों को देखा। इस टीके के कोई साइड इफेक्ट नहीं है। यह आपको स्वस्थ्य रखने में मदद करेगा। कोविड-19 टीकाकरण शरीर में कोरोना के प्रति प्रतिरक्षा तंत्र के निर्माण के लिए बेहद ही सुरक्षित और प्रभावी तरीका है।

Posted By: Shashank.bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags