रायपुर । कोरोना की जंग में प्रदेश के सैकड़ों 'स्वास्थ्य सिपाही' पूरी शिद्दत से लड़ रहे है। समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए राजधानी के 30 स्वास्थ्य कर्मी कोरोना संक्रमितों को पल-पल स्वास्थ्य सुविधा मुहैया करा रहे हैं। इन योद्घाओं में आरएमए के पद पर कार्यरत दुर्गेश कुमार सिंह और शैलेद्र ठाकुर के साथ उनकी 28 सदस्यीय चिकित्सा कर्मी भी शामिल हैं। इन्होंने न सिर्फ अब तक राजधानी के 500 से अधिक कोरोना के संदेहियों को इलाज उपलब्ध कराया, बल्कि पांच कोरोना मरीजों को स्वस्थ कर घर भी पहुंचा दिया।

घर जाने का ठिकाना नहीं, 24 घंटे अलर्ट : दुर्गेश

हीरापुर स्वास्थ्य केंद्र में आरएमए के पद पर कार्यरत दुर्गेश कुमार सिंह वे शख्स हैं, जिन्होंने राजधानी में कोरोना संदेहियों के सैम्पल कलेक्शन से लेकर उनकी जांच और स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने का जिम्मा संभाला है। अब तक 500 से अधिक लोगों की जांच कर चुके हैं। इनमें से पांच पॉजिटिव आए।

हमारी टीम को सैम्पल कलेक्शन से लेकर पॉजिटिव आने पर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराने की सारी प्रक्रियाएं करनी होती है। सुबह आठ बजे से आते हैं, लेकिन घर जाने का कोई ठिकाना नहीं होता है। देर रात घर पहुंच भी गए तो सबसे पहले गर्म पानी और ब्लीचिंग पाउडर से खुद को धोते हैं।

घर पर मेरे छोटे-छोटे बच्चे हैं जिनकी चिंता ज्यादा होती है। इस वजह से उनके करीब भी नहीं जा पाता हूं। 24 घंटे ऑन कॉल हमारी टीम तैयार रहती है कि कहीं भी संदेही या कोरोना मरीज मिले तो उन्हें अस्पताल पहुंचाना है।

बस समाज रहे सुरक्षित : शैलेष

जिला स्वास्थ्य विभाग में आरएमए के पद पर तैनात शैलेष ठाकुर ने बताया कि संदेहियों को कॉल कर उनकी जानकारी जुटाने में पूरा दिन लगे रहते हैं। हमारे पास विदेश के साथ ही अन्य राज्यों से यात्रा कर पहुंचे संदेहियों की सूची आती है।

इनके नंबर पर संपर्क कर स्वास्थ्यगत समस्याओं को लेकर काउंसिलिंग के बाद हमारी टीम पीड़ित के घर तक जाकर सैम्पल लेती है। हर दिन 100 से 150 लोगों से संपर्क कर रहे हैं। शैलेष ने बताया कि जैसे ही कोरोना के पॉजिटिव मिलते हैं, सबसे पहले उसे सुरक्षित अस्पताल पहुंचाया जाता है।

इसके बाद उसके घर के आसपास 50 घरों का भी सर्वे कर उनकी भी जांच करनी पड़ रही है। जब से इस अभियान से जुड़े हैं, घर क्या होता है, शायद हम भूल चुके हैं। हम कितना काम कर रहे हैं ये मायने नहीं रखता है, बस हमारा समाज सुरक्षित रहे।

- कोरोना नियंत्रण अभियान में हमारी पूरी स्वास्थ्य टीम मुस्तैदी के साथ लगी हुई है। जो भी संदेही मिल रहे हैं, उनकी जांच से लेकर इलाज तक की सुविधाएं कर्मचारी उपलब्ध करा रहे हैं। स्वास्थ्य कर्मचारी सिर्फ लोगों के लिए ही हैं, सभी को सपोर्ट करना चाहिए। - डॉ. मीरा बघेल, जिला चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, जिला-रायपुर

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस