Coronavirus in Raipur : रायपुर। छत्तीसगढ़ की पहली कोरोना पॉजिटिव 24 वर्षीय युवती निष्ठा अग्रवाल स्वस्थ होकर घर लौटीं तो उनका स्वागत जबरदस्त तरीके से किया गया। एम्स में 16 दिन भर्ती रहीं निष्ठा ने कोरोना से लड़कर ने अपने परिवार समेत प्रदेश को भी राहत की सांस दी है। शुक्रवार को एम्स से डिस्चार्ज होकर देर शाम को एम्बुलेंस से जैसे ही घर के बाहर निष्ठा अग्रवाल उतरीं, आसपास के लोग इकट्ठा हो गए। खुशी से हर कोई निष्ठा को बधाई दे रहा था। घर के बाहर पूरा परिवार था, जो बेटी के स्वागत के लिए आंख गड़ाए खड़ा था। निष्ठा के आते ही सभी के चेहरे खिल गए। लोग थाली, घंटी बजाते रहे, वहीं भारत माता का जयघोष भी जोर-जोर कर रहे थे। निष्ठा ने हाथ जोड़कर सभी का आभार जताया। निष्ठा ने कहा- लोगों को संक्रमण के बारे में जानना चाहिए और पूरे समाज को मिलकर लड़ना चाहिए। प्रशासन, एम्स के चिकित्सकों का पूरा साथ मिला, जिसकी वजह से ठीक हो पाई। निष्ठा ने पिता आत्मबोध अग्रवाल ने सरकारी राहत कोष में पांच लाख की राशि दी है।

बता दें कि लंदन से लौटी समता कॉलोनी निवासी निष्ठा अग्रवाल के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद से पूरे प्रदेश में हाई अलर्ट था। रिपोर्ट आने के बाद आधी रात को ही निष्ठा को एम्स में भर्ती कर दिया गया था। इधर सकते में सरकार ने रायपुर के साथ ही पूरे प्रदेश में धारा 144 लगा दिया। पूरी कॉलोनी को सील कर दिया गया था। ब्लीचिंग पाउडर से पूरे एरिया को सैनिटाइज किया गया। इधर स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना जांच को लेकर कमर कस ली। पुलिस बल हर आने-जाने वाले पर नजर रखने लगी। एम्स में भी पहले कोरोना पॉजिटिव के भर्ती होने के बाद परिसर को पूरी तरह सैनिटाइज किया गया। एम्स में ओपीडी तक बंद कर दी गई।

15 मार्च को पहुंचते ही खुद को किया था आइसोलेट

निष्ठा की मां सरिता अग्रवाल ने बताया कि 15 मार्च को लंदन से रायपुर पहुंची निष्ठा ने एयरपोर्ट पर पूरी जानकारी दी थी। इसके बाद घर आकर होम आइसोलेशन में थी। उसका किसी से मिलना-जुलना नहीं था, यहां तक कि वह अपने दादा जी से भी नहीं मिली। लक्षण नजर आने पर एम्स में जांच के लिए गए तो पहले एम्स ने वापस भेज दिया। फिर दोबारा जाने के बाद सैंपल लिया गया। रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद हमने भर्ती कर दिया। निष्ठा के खिलाफ काफी अफवाहें उड़ाई जा रही थीं, जो गलत थीं। हालांकि निष्ठा को अभी 28 दिनों तक होम क्वारंटाइन में रहना होगा।

अन्य मरीजों के स्वास्थ्य में भी सुधार

प्रदेश में अब तक कोरोना के मिले नौ मरीजों में चार पूरी तरह स्वस्थ हो चुके हैं। पांच का इलाज जारी है। एम्स के अधीक्षक डॉ. करन पीपरे ने बताया कि कोरोना पॉजिटिव भर्ती सात मरीजों में अब तक तीन पूरी तरह से स्वस्थ होकर घर चले गए हैं। चार अन्य भर्ती मरीजों की हालत में भी सुधार आ रहा है। इधर राजनांदगांव मेडिकल कॉलेज में भर्ती कोरोना पीड़ित की स्थिति में भी सुधार होने की जानकारी मिली है, उसे भी जल्द डिस्चार्ज किया जा सकता है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना