रायपुर। Crime News: राजधानी रायपुर में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी का सिलसिला थमता नजर नहीं आ रहा है। एक बेरोजगार युवक को लेबर इंस्पेक्टर की नौकरी लगवाने का दावा कर सात लाख रुपए ऐंठने वाले आरोपित पार्षद पति हरेंद्र शर्मा को गुरूवार खमतराई पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। खमतराई पुलिस थाना प्रभारी विनित दुबे ने बताया कि मूलत: महासमुंद जिले के ग्राम डूमरपाली निवासी शिक्षित बेरोजगार दुखनाशन मानिकपुरी (35) ने जुलाई 2018 में श्रम विभाग में श्रम निरीक्षक (लेबर इंस्पेक्टर) की भर्ती के लिए विज्ञापन निकलने पर आवेदन फार्म भरा था।

इस बीच पहचान बिरगांव नगर निगम में भाजपा पार्षद के पति हरेंद्र शर्मा हुई थी। हरेंद्र ने अपनी ऊंची पहुंच का हवाला देकर दुखनाशन को झांसे में लिया और लेबर इंस्पेक्टर की नौकरी आसानी से दिलाने के नाम पर सात लाख रुपये की मांग की। सरकारी नौकरी पाने के लालच में आकर दुखनाशन ने जुलाई 2018 में ही आडवानी कॉलोनी बिरगांव स्थित हरेंद्र शर्मा के निवास पर जाकर दो लाख रुपये का घासीदास कमलदास के सामने पहली बार दिया। उसके बाद दोबारा पैसा मांगने पर तीन लाख फिर दिसंबर 2019 में आखिरी बार दो लाख रुपये का चेक कुल चार चेक के माध्यम से सात लाख रुपये पीड़ित ने हरेंद्र को दिया था।

कई महीने बाद भी जब नौकरी नहीं लगी, तो दुखनाशन ने हरेंद्र से पैसा वापस लौटाने को कहा तो वह आनाकानी करने लगा। परेशान होकर दुखनाशन मानिकपुरी ने पुलिस थाने में शिकायत की। पुलिस ने मामले में चार सौ बीसी का अपराध कायम कर गुरुवार को हरेंद्र शर्मा को उसके घर से गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में आरोपित ने अपना अपराध कबूल कर लिया। हरेंद्र शर्मा की पत्नी चंद्रकला शर्मा बिरगांव नगर निगम में वार्ड क्रमांक 19 की भाजपा पार्षद और वर्तमान में एमआईसी सदस्य भी है।

Posted By: Shashank.bajpai

NaiDunia Local
NaiDunia Local