रायपुर। Corona Vaccination: भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय टीकाकरण प्रभाग नई दिल्ली और संचालनालय स्वास्थ्य सेवायें, छत्तीसगढ़ से प्राप्त दिशा-निर्देशानुसार आज 16 जनवरी से कोविड-19 वैक्सीनेशन कार्यक्रम का शुभारंभ कर दिया गया है। रायपुर जिला अस्पताल पंडरी में पहला टीका 10.40 मिनट में लगा। एक घंटे 11.40 बजे तक 10 लोगों को टीका लगाया जा चुका है। स्वास्थ्य विभाग ने पहले ही इसकी पूरी तैयारी कर ली थी। मेडिकल कॉलेज रायपुर में निरीक्षण के लिए स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव पहुंचे।

इसके तहत सर्वप्रथम हेल्थ केयर वर्करों जैसे चिकित्सा नर्सिग स्टॉफ, वार्ड बॉय, एम्बुलेन्स ड्रायवर, सफाई कर्मी, लैब टैक्नीशियन, फर्मासिस्ट इत्यादि को कोविड-19 वैक्सीनेशन किया जाएगा। इसके लिये रायपुर जिले में सर्वप्रथम आज से पांच स्वास्थ्य संस्थानों में टीकाकरण किया जाएगा, जिसमें एम्स हास्पिटल, पं जवाहर लाल नेहरू स्मृति मेडिकल कालेज, जिला अस्पताल पंडरी, एनएच एमएमआई हास्पिटल और मिशन हास्पिटल तिल्दा शामिल हैं।

जिला अस्पताल पंडरी पहुंचे रायपुर कलेक्टर डॉ. एस भारतीदासन उनके साथ जिला सीएमएचओ मीरा बघेल ने यहां का जायजा लिया। इसके साथ ही जिन लोगों का टीकाकरण हुआ था, उनकी हौसला अफजाई की गई।

बताते चलें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उद्घोषण के साथ ही देशभर में कोरोना के टीके लगाए जाने का काम शुरू हो गया है। इसी कड़ी में रायपुर में भी टीकाकरण की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। एम्स रायपुर में आज सुबह सबसे पहले यहां के डायरेक्टर डॉ. नितिन नागरकर को कोरोना टीका लगाया गया।

दूसरे नंबर पर सफाई कर्मी मलखान जांगड़े को टीका लगाया गया। एम्स के डायरेक्टर डॉ. नितिन नागरकर ने निगरानी कक्ष में टीकाकरण करवाने वाले सफाईकर्मी मलखान जांगड़े से बात की और पूछा कैसे लग रहा है? जांगड़े ने बताया- अच्छा।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य पदाधिकारी रायपुर डॉ. मीरा बघेल ने बताया कि उपरोक्त प्रत्येक टीकाकरण केंद्रों में 100-100 हितग्राहियों को टीकाकृत किए जाने का लक्ष्य रखा गया है ,जिनका नाम पूर्व से कोविन पोर्टल में दर्ज है। उक्त टीकाकरण कार्य के लिये प्रत्येक टीकाकरण केंद्रों में दो-दो वैक्सीनेटर, दो-दो निगरानीकर्ता, दो-दो रिकार्ड जॉच कर्मी, सुरक्षा कर्मी, मोबलाईजर एवं प्रत्येक टीकाकरण केंद्रों के लिये नोडल अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई है।

कोविड-19 वैक्सीन हितग्राही को लगने के बाद उनको 30 मिनट तक ऑबजरवेशन (निगरानी) कक्ष में बैठाया जाएगा, इस दौरान किसी भी प्रकार की एडवर्स ईवेन्ट होने की स्थिति में तत्काल प्राथमिक इलाज प्रारंभ करते हुए ऐसे मरीजों को जिला अस्पताल/ मेडिकल कॉलेज हास्पिटल में रिफर करने की व्यवस्था की गई है ,जिसके लिये 108 एम्बुलेन्स को एलर्ट पर रखा गया है।

रायपुर जिला अस्पताल के हॉस्पिटल अटेंडेंट को लगा पहला टीका

रायपुर जिला अस्पताल पंडरी के हॉस्पिटल अटेंडेंट हेमंत कुमार दुबे ने नईदुनिया से खास बातचीत की। उन्होंने बताया कि पहला टीका उन्हीं को लगना है, जिसे लेकर वह खासे उत्साहित हैं। उनका कहना है कि हर व्यक्ति को टीका लगाना जरूरी है और वह स्वयं से आगे आएं और टीकाकरण जरूर करवाएं।

निगरानी कक्ष में चिकित्साक, आरएमए एवं प्रशिक्षित नर्सिग स्टॉफ की ड्यूटी लगाई गई है। कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिये राज्य वैक्सीन भण्डार से रायपुर जिले के हितग्राहियों को टीकाकरण करने के लिए कोविशील्ड वैक्सीन की 18700 डोजेज प्राप्त हुई हैं।

जिसे जिला वैक्सीन भण्डार से कोल्ड चेन प्वाइंट तथा कोल्ड चेन प्वाइंट के माध्यम से सत्र स्थलों तक कोल्ड चेन मेंटेन करते हुये सत्र स्थल तक प्रत्येक टीकाकरण केंद्र में 110-110 डोज वैक्सीन प्रदान किया जा रहा है।

Posted By: Shashank.bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags