रायपुर। आजाद चौक इलाके में पान एवं जनरल दुकान से नकद छह लाख रुपये की चोरी अपचारी बालकों के लोकल गैंग ने की थी। पुलिस ने अपचारी बालकों का साथ देने वाले एक युवक को बेमेतरा से गिरफ्तार किया। उसकी निशानदेही पर करीब साढ़े चार लाख रुपये बरामद हुए हैं। सीएसपी नसर सिद्दीकी ने कंट्रोल रूम में इसका खुलासा किया।

सीएसपी ने बताया कि मनीष अग्रवाल के पान मसाला एवं जनरल स्टोर में 13 मई की रात चोरी हुई थी। मनीष ने उस रात दस बजे दुकान बंद की थी। दूसरे दिन नौकर काम पर पहुंचे तब शटर का ताला टूटा पाया। उन्होंने तुरंत दुकान मालिक और पुलिस को खबर दी। पुलिस ने मामले की जांच के दौरान संदिग्ध युवक झम्मन साहू उर्फ विशाल के साथ चार अपचारी बालकों को बेमेतरा और दूसरी जगहों से पकड़ा।

सीएसपी ने बताया कि इनमें से एक अपचारी बालक कुछ सामान खरीदने के लिए दुकान पहुंचा तो उसकी नजर रुपये से भरे गल्ले पर पड़ी। उसने झम्मन को यह बात बताई तो वह भी चोरी करने पर राजी हो गया और अन्य साथियों को जोड़ लिया। घटना की रात कलेक्शन की बड़ी रकम स्टोर में रखी थी, जिसे अपचारी बालकों ने साफ कर दिया।

घर में रहा केवल एक घंटे

आरोपित झम्मन इस बड़ी चोरी के ठीक दो दिन पहले जेल से छूट था। नकबजनी के मामले में पुलिस ने उसे जेल भेजा था। बड़ी चोरी होने पर पुलिस टीम तस्दीक के लिए उसके घर पहुंची तो घर वालों ने बताया कि वह जेल से छूटा, लेकिन घर में केवल एक घंटे ही रहा। उसका कुछ पता नहीं। इस पर तुरंत पुलिस टीम सक्रिय हो गई।

एसएसपी का लोकल इंटेलिजेंस काम का

हाल में एसएसपी आरिफ एच शेख ने सभी थानों में इंटेलिजेंस सिस्टम बेहतर करने के लिए सिपाही से लेकर हवलदारों के लिए रूट चार्ट तय किया है। पूर्व के बीट सिस्टम की तरह रूट में मॉनिटरिंग की जिम्मेदारी सहयोगी स्टाफ की तय की। लोकल स्टाफ क्षेत्र में सक्रिय थे इस कारण कुछ अपचारी बालक के सक्रिय होने का पता हैं। वे वारदात के बाद से बड़ी राशि खर्च कर रहे थे, इससे भी चोरी की कड़ी सुलझाने में मदद मिली।

Posted By: Nai Dunia News Network