रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। देशभर में ठगी की घटना को अंजाम देने वाले एक अंतरराज्यीय गिरोह का रायपुर पुलिस ने भंडाफोड़ किया है। गिरोह की मास्टर माइंड महिला अपने पुरुष साथी के साथ मिलकर लोगों को पूजा पाठ कराने, पैसे-जेवरों को दोगुना करने का झांसा देकर ठगी करते थे। अब तक इस गिरोह ने 24 से अधिक लोगों से करोड़ों रुपये ठगना स्वीकार किया है।

पुलिस के हत्थे चढ़ी महिला और पुरुष ने रायपुर में पुरानी बस्ती इलाके की रेखा साहू और उसके परिवार के सदस्यों को शिकार बनाया था। शिकायत के बाद पुलिस ने जांच शुरू की। आरोपितों के महाराष्ट्र के अकोला में होने की जानकारी मिलने पर टीम भेजी गई और शनिवार को दोनों को गिरफ्तार कर रायपुर लाया गया।

एसएसपी प्रशांत अग्रवाल, एएसपी सिटी व अपराध अभिषेक माहेश्वरी ने पुलिस कंट्रोल रूप में मामले का राजफाश किया। उन्होंने बताया कि मलसाय तालाब के पास राम जानकी भवन कुशालपुर निवासी रेखा साहू ने पुरानी बस्ती पुलिस थाने में ठगी की प्राथमिकी करवाई थी। उसके अनुसार फरवरी 2022 में वह बलौदाबाजार में निवासरत अपने स्वजन के साथ उज्जैन स्थित महाकालेश्वर मंदिर दर्शन के लिए गई थी। इसी दौरान वहां उसकी पहचान आशुतोष नामक संन्यासी से हुई थी, जिसने आरती पाटिल से मिलवाया और बताया कि आरती हस्तरेखा देखकर भविष्य बताती है।

मंदिर दर्शन के दौरान रेखा और उसके स्वजन आशुतोष और आरती पाटिल के साथ रहे। सभी ने एक-दूसरे को अपना मोबाइल नंबर दिया था। वहां से लौटने के बाद से रेखा और स्वजन की बातचीत आशुतोष, आरती से होती रही। जून 2022 से 21 सितंबर के बीच रेखा और उसके स्वजन को भूत-प्रेत का डर दिखाकर, सोने-चांदी के जेवर और पैसे को दोगुना करने का झांसा देकर आशुतोष और आरती ने 67 तोला सोने के जेवर, नकद 42 लाख रुपये कुल 75 लाख 50 हजार रुपये ठगकर फरार हो गए।

इन राज्यों में की ठगी

पकड़े गए आरोपितों ने पूछताछ में बताया कि देशभर में घूम-घूमकर वे पिछले एक साल से लोगों को भूत-प्रेत का बाधा दूर करने पूजा पाठ कराने और पैसे व जेवरों को तंत्र-मंत्र से दोगुना करने का प्रलोभन देकर ठगते आ रहे हैं। अब तक छत्तीसगढ़ समेत हिमाचल प्रदेश, उत्तराखण्ड, पंजाब, राजस्थान,मध्य प्रदेश सहित अन्य राज्यों के दो दर्जन से अधिक लोगों को ठगी का शिकार बनाकर करोड़ों रुपये ठग चुके हैं।

लोकेशन ट्रेस होते ही अकोला पहुंची टीम

जेवर,पैसे ठगकर फरार शिवशक्ति नगर थाना जामनेर जिला जलगांव(महाराष्ट्र) निवासी सुषमा प्रभाकर पाटिल(48) और 17/383 गुजरात हाउसिंग बोर्ड बांबे मार्केट थाना वराछ रोड जिला सूरत(गुजरात) निवासी अशोक नाथूलाल भोलावत उर्फ बाबा(54) के मोबाइल को पुलिस ने लोकेशन ट्रेस किया तो वह अकोला का निकला। इसके बाद एंटी क्राइम एंड साइबर यूनिट के उपनिरीक्षक सिकंदर कुर्रे के नेतृत्व में पांच सदस्यीय टीम अकोला (महाराष्ट्र) पहुंची और बिना भनक लगे दोनों ठगों को दबोच लिया।पूछताछ में आरोपितों ने रेखा साहू और उसके स्वजनों से पैसा,जेवर ठगना कबूल किया।

चार दिन के रिमांड पर

आरोपितों ने जिन राज्यों में ठगी की घटना को अंजाम दिया है, वहां के संबंधित पुलिस थाने से रायपुर पुलिस जानकारी साझा कर रही है।आरोपितों को कोर्ट में पेशकर चार दिन के पुलिस रिमांड पर लेकर अन्य घटनाओं के संबंध में पूछताछ की जा रही है। ठगों ने अपनी पहचान छिपाने के उद्देश्य से लोगों को अलग-अलग नाम व पते बताये थे। यहीं नहीं, इनके पास से अलग-अलग नाम से फर्जी आधार कार्ड भी बरामद किया गया है।

Posted By: Pramod Sahu

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close