रायपुर। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ने अब छत्तीसगढ़ के दक्षिणी क्षेत्र बस्तर में नक्सलवाद के उन्मूलन के लिए कमर कस ली है। सीआरपीएफ द्वारा अब यहां अभियानों में तेजी लाई जाएगी, ताकि जल्द से जल्द इस इलाके को नक्सलमुक्त किया जा सके। इसके लिए केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल ने रणनीति का पूरा खाका तैयार कर लिया है। सीआरपीएफ के डीजी एपी माहेश्वरी ने पिछले दिनों राज्य का दौरा किया और यहां नक्सलवाद के उन्मूलन के लिए व्यापक रणनीति पर राज्य पुलिस के अन्य अधिकारियों से चर्चा की थी। इस बारे में अधिकारियों ने गुरुवार को जानकारी दी।

सीआरपीएफ राज्य में नक्सलियों से मुकाबला करने वाली प्राथमिक इकाई है। उसने बीजापुर और सुकमा के दूरदराज और घने जंगलों में नक्सलियों के खिलाफ विशेष अभियान लक्ष्य की शुरुआत की है। इसके साथ ही दंतेवाड़ा क्षेत्र में भी सीआरपीएफ नक्सलमुक्त अभियान के लिए काम कर रही है।

सीआरपीएफ के महानिदेशक एपी माहेश्वरी ने राज्य के अपने दौरे के दौरान बुधवार को विशेष अभियान लक्ष्य की समीक्षा की थी। बीजापुर और सुकमा के जंगलों में इस अभियान के दौरान नक्सलियों के एक बड़े ठिकाने का पता चला था। यहां हुई मुठभेड़ में सीआरपीएफ की विशेष लड़ाकू इकाई कोबरा के दो कमांडो की मौत हो गई थी। अभियान में सीआरपीएफ ने नक्सलियों के बड़े ठिकाने, ट्रेनिंग कैंप और हथियार निर्मांण इकाई को नष्ट किया था।

उन्होंने कोबरा और सीआरपीएफ की अन्य इकाइयों से नक्सलियों के गढ़ों में घुसने और उन्हें खत्म करने का आह्वान किया। साथ ही यह भी कहा कि किसी आम नागरिक को कोई नुकसान नहीं होना चाहिए। सीआरपीएफ राज्य पुलिस के साथ मिलकर नक्सलियों की खूंखार बटालियन पीपुल्स लिबरेशन गुरिल्ला आर्मी (पीएलजीए) पर भी कार्रवाई की योजना बना रहा है।

अपने दौरे के दौरान महेश्वरी ने सीआरपीएफ कमांडोज का हौसला बढ़ाते हुए कहा कि सभी के सहयोग से राज्य में नक्सल उन्मूलन का यह गहन ऑपरेशन चलता रहेगा। महानिदेशक ने वीरता और पेशेवर जज्बे के लिए सैनिकों की सराहना की और उन्हें सलाम किया। उन्होंने कहा कि हमारे किसी भी सैनिक की कुर्बानी व्यर्थ नहीं गई है। एक सच्चा सैनिक अपना मिशन पूरा करने के लिए हमेशा प्रतिबद्ध होता है।

शहीद जवानों ने मिशन को पूरा करने में अपने जीवन का जो बलिदान दिया है, उसी पर खुशहाली की बुनियाद एक दिन बस्तर में खड़ी होगी। उन्होंने कहा कि शहीदों के परिवारों के प्रति सीआरपीएफ हमेशा ही पूरी तरह जिम्मेदारी का निर्वहन करती रही है। उनकी अच्छी तरह से देखभाल हो, यह सुनिश्चित किया जाता है। घायलों को बेहतरीन चिकित्सा सुविधा दी जा रही है। उनके पुनर्वास की प्रक्रिया भी चल रही है।

Posted By: Himanshu Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan