रायपुर। Crime News: कोरोना संकटकाल में अधिकांश लोग घरों में कैद होकर खुद और परिवार को सलामत रख रहे हैं। वहीं, साइबर ठग अपने ठिकानों पर बैठकर और अधिक सक्रिय हो गए हैं। ऐसे ठगों का रोज रायपुर में सौ से अधिक लोगों को कॉल और मैसेज आ रहे हैं। इनमें से कुछ ठगी के शिकार भी हो रहे हैं। आलम यह है कि जनवरी 2021 से मार्च 2021 तक साइबर ठगी के 101 केस दर्ज हुए हैं।

अधिकांश लोग तो साइबर ठगों के पैंतरे समझ जाते हैं, लेकिन कुछ अनजाने में ठगी के शिकार हो रहे हैं। दरअसल, कोरोना काल में रोजमर्रा के अधिकांश कामकाज ऑनलाइन हो रहे हैं। इससे जिंदगी को सामान्य बनाए रखने में जहां मदद मिली है, वहीं साइबर ठगों ने इसे अपनी कमाई का जरिया ही बना लिया हैे।

कोरोना संक्रमण को लेकर फैली दहशत का फायदा उठाते हुए साइबर ठग कोरोना का मुफ्त इलाज, दवा, वैक्सीन के बाद कोरोना से जंग जीतकर आने वाले लोगों को दोबारा संक्रमित न होने की शर्तिया दवा दिलाने के नाम पर ठगी कर रहे है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि कोरोना काल में लोगों को सहायता और इलाज में खर्च रकम की प्रतिपूर्ति करने के नाम पर ई-मेल, वाट्सएप मैसेज भेजकर ठग झांसे में ले रहे हैं। फिर बैंक खाते की पूरी जानकारी लेकर, हैक कर आनलाइन पैसे उड़ा रहे हैं। कई मामलों में ठगों ने ऑनलाइन शापिंग भी की है। ठगों की सक्रियता को देखकर रायपुर पुलिस ने लोगों को सावधान किया है।

यह अपना रहे तरीका

कोरोना के नाम पर साइबर ठगी के बढ़ते मामलों को देखते हुए देश के कई राज्यों के साथ छत्तीसगढ़ पुलिस ने लोगों को अलर्ट करते हुए एडवाइजरी जारी की है। साइबर विशेषज्ञों के अनुसार साइबर ठग अब कोविड थीम बनाकर इन दिनों ठगी कर रहे हैं। वे हैकिंग, मेल फिशिंग, इमोशनल हिप्नोटाइजिंग के जरिये पैसे ऐंठने में लगे हैं। इसमें रेफरेंस और सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन करने वाले कई बिचौलिये भी शामिल हैं। लिहाजा इस तरह के किसी भी मैसेज, लिंक को अनदेखा करके ही ठगी से बचा जा सकता है। ऐसे मैसेज या लिंक पर क्लिक नहीं करने की अपील रायपुर पुलिस ने की है।

न करें यह काम

गूगल पर सर्च करने से कई बार आपके बैंक के नाम की फर्जी वेबसाइट आ जाती है। इन वेबसाइट्स पर क्लिक करते ही आप फर्जी बैंक की वेबसाइट पर चले जाते हैं। फिर आप इस वेबसाइट पर अपने बैंक खाते की जानकारी डालते हैं तो उसे ठग चुराकर आपके खाते से असानी से पैसे उड़ा सकता है।इस तरह से कई आनलाइन शापिंग कंपनियों के कस्टमर केयर का नंबर भी डालकर ठग लोगों को झांसे में लेकर उनके बैंक खाते का डिटेल लेकर ठगी कर रहे है।

यहां करे शिकायत

भारत सरकार के गृह मंत्रालय द्वारा इंडियन सायबर क्राइम कोआर्डिनेशन सेंटर प्रोजेक्ट के तहत वर्तमान में फायनेंशियल फ्रॉड के मामलों को रोकने के लिए नेशनल साइबर क्राइम रिपोर्टिंग पोर्टल (एनसीसीआरपी) छत्तीसगढ़ में भी लांच किया गया है, जिसका हेल्प लाइन नंबर 155260 है।यदि किसी व्यक्ति के साथ आनलाइन फायनेंशियल फ्रॉड होता है तो वह इस पोर्टल में स्वयं घर बैठे सीधे तौर पर अपनी शिकायत दर्ज कर सकते हैं।

एक्सपर्ट व्यू

कोरोना महामारी के दौर में भी साइबर हैकर्स बीमारी का डर, बदली हुई आदतें और जरूरतों का फायदा उठाकर बैंक खातों से पैसा उड़ा रहे हैं। साइबर ठग गिरोह लगातार नए-नए तरीके विकसित कर ठगी की वारदात को अंजाम दे रहे है, लिहाजा इनसे सावधान रहने की जरूरत है।

- अभिषेक माहेश्वरी, एडिशनल एसपी क्राइम-साइबर सेल रायपुर।

Posted By: Shashank.bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags