रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। चिकित्सा शिक्षा विभाग विभाग द्वारा द्वारा नर्सिंग कर्मियों की भर्ती में जनरल नर्सिंग मिडवाइफरी को मान्यता देने और 2 वर्षों का अतिरिक्त छूट देने को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और स्वास्थ मंत्री टीएस सिंहदेव को पत्र लिखा गया है।

भारतीय जनता पार्टी सूचना का अधिकार प्रकोष्ठ के नेता जयराम कुमार दुबे ने पत्र में कहा है कि छत्तीसगढ़ में संचालनालय चिकित्सा शिक्षा क्षेत्र में स्टाफ नर्स के विज्ञापन में बीएससी नर्सिंग और पोस्ट बीएससी नर्सिंग को ही मान्यता दी जाती है, जबकि केंद्र के अधीन एम्स, रेलवे, एनएमडीसी, पीजीआइ चंडीगढ़ सहित अन्य प्रदेशों के संचालनालय चिकित्सा शिक्षा क्षेत्र में जनरल नर्सिंग मिडवाइफरी (GNM) को प्राथमिकता देते हैं। लेकिन हमारे राज्य में जनरल नर्सिंग मिडवाइफरी को मान्यता नहीं दी जा रही हैं,जो राज्य के जीएनएम शिक्षित युवाओं के साथ अन्याय है।

उन्होंने कहा कि जीएनएम भी बीएससी नर्सिंग और पोस्ट बीएससी नर्सिंग के समकक्ष ही है। जिस प्रकार पटवारी के विज्ञापन में कंप्यूटर करने के लिए दो साल का वक्त दिया जाता है, ठीक उसी प्रकार छत्तीसगढ़ राज्य में संचालनालय चिकित्सा शिक्षा क्षेत्र में स्टाफ नर्स के विज्ञापन में जनरल नर्सिंग मिडवाइफरी पाठ्यक्रम वालों को प्राथमिकता देकर पोस्ट बीएससी नर्सिंग करने का मौका दिया जाना चाहिए। ऐसे में जीएनएम योग्यता धारियों को भी भर्ती में प्राथमिकता देने की मांग की गई है।

Posted By: Ashish Kumar Gupta

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close