रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

शुक्रवार को थल सेना दिवस है। रक्षा के क्षेत्र में जाने के लिए युवा काफी उत्साहित रहते है। कभी ऐसा भी होता है कि जानकारी के अभाव में वे अपने सपने को साकार नहीं कर पाते। रक्षा क्षेत्र विशेषज्ञों का मानें तो इंडियन आर्मी में नौकरी के लिए मेहनत जरूरी है। इसमें कब क्या करना कब कैसे क्या करना इन सब बातों का विशेष रूप से ख्याल रखना पड़ता है।

सैन्य क्षेत्र के अधिकारियों ने मुताबिक इस क्षेत्र में नौकरी से ज्यादा मान-सम्मान और गौरव भी मिलता है। इसके अलावा सेना में काम करते हुए प्रतिष्ठा, कैरियर, अच्छा और सुविधाएं आदि मिलने के साथ-साथ देश की सेवा करना का मौका मिलता है। यही कारण है कि हर युवा का सपना होता है कि भारतीय सेना में नौकरी पाने की।

मौका अभी इन क्षेत्रों में कर सकते सेना भर्ती के लिए आवेदन

जानकारी के अनुसार संघ लोकसेवा आयोग द्वारा नेशनल डिफेंस एकेडेमी (एनडीए) में अभी भारतीय सेना में भर्ती निकाली गई है, जहां आप इंडियन आर्मी में अधिकारी की पोस्ट प्राप्त कर सकते हैं, जिसके लिए आवेदन 19 जनवरी तक कर सकते हैं। परीक्षा 18 अप्रैल को होगी। इसके लिए परीक्षार्थी अविवाहित होना चाहिए, तभी परीक्षा में बैठ सकता है। भारतीय एयरफोर्स और नेवी में भर्ती होने के लिए 12वीं फिजिक्स और मैथ्स विषय में पढ़ाई करना अनिवार्य है। उम्र 16.5 से 19 साल तक होनी चाहिए। साथ ही लंबाई कम से कम 15 सेंटीमीटर तय की गई। करियर एक्सपर्ट के मुताबिक एनडीए की लिखित परीक्षा में दो पेपर होते हैं। पहला पेपर 300 अंक का होता है। इसमें मात्र मैथ्स के प्रश्न पूछे जाते हैं। दूसरा पेपर 600 अंक जनरल एबिलिटी होता है। वहीं 200 अंक के प्रश्न अंग्रेजी और बाकी 400 वित्रान, इतिहास, जीव विज्ञान, जनरल नालेज आदि से प्रश्न पूछे जाते हैं।

भर्ती रैली से बन सकते हैं सिपाही

वैसे तो भारतीय सेना में विभिन्न पदों के लिए अलग-अलग समय में कई राज्यों में भर्ती रैली आयोजित की जाती है, जहां भारतीय सेना में टेड्समैन, नर्सिंग असिस्टेंट, टेक्निकल क्लर्क, स्टोर कीपर और जनरल ड्यूटी के लिए सिपाही या सोल्जर के तौर भर्ती रैली का आयोजन किया जाता है। वहीं भर्ती रैली के माध्यम से भरे जाने वाले सिपाही पदों के लिए आठवीं, दसवीं, बाहरवीं, आइटीआइ निर्धारित की गई है और आयु सीमा 17.5 वर्ष से 23 वर्ष तक होनी चाहिए। इसके लिए युवाओं को भारतीय सेना की वेबसाइट कब कैसे कहां हो रही भर्ती रैली आयोजित आदि के बारे में जानकारी हासिल कर सकते हैं।

भारतीय सेना में जाने के लिए 10वीं कक्षा से इसकी तैयारी शुरू कर जाने चाहिए। ऐसा इसलिए है कि इस 14-15 साल में दिमाग आकार लेते रहते है। और भारतीय सेना में गर्माजोशी युवाओं की तलाश हमेशा रहती है। इसी कारण है कि अन्य नौकरी की तरह सेना जल्द ही रिटायरमेंट कर दिया जाता है। वहीं सबसे खास यह है कि सेना में अच्छी सी आमदनी भी प्राप्त होती है। इससे ज्यादा सम्मान, गौरव और देशप्रेम की भावना जाग्रत होती है।

- डा. वर्णिका शर्मा, सैन्य मनोचिकित्सक

इसलिए मनाते थल सेना दिवस

फील्ड मार्शल केएम करियप्पा के सम्मान में हर साल 15 जनवरी को सेना दिवस मनाया जाता है। करियप्पा भारतीय सेना के पहले कमांडर-इन-चीफ थे, जिन्होंने 15 जनवरी 1949 में सर फ्रैंसिस बुचर से प्रभार लिया था। बता दें कि करियप्पा ने 1947 में भारत-पाक के बीच हुए युद्घ में भारतीय सेना की कमान संभाली थी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस