रायपुर । 'धरती के अधरों की प्यास बुझाती हुई, बेचैन नदियों की धड़कने....' की प्रस्तुति देकर कवयित्री नीता श्रीवास्तव ने वृन्दावन हॉल में मौजूद श्रोताओं के बीच 'पावस' पर काव्य धारा बहाई। वहीं 'एक छोटा-सा दीया जला दो'.. भावपूर्ण काव्य पाठ से डॉ.मंजुला श्रीवास्तव ने वाहवाही लूटी। छत्तीसगढ़ हिन्दी साहित्य मंडल ने काव्य गोष्ठी के दौरान त्रिपुरा में औषधीय सेमिनार में शिरकत करके लौटे इंजी.अमरनाथ त्यागी का साहित्य मंडल ने रविवार को गोष्ठी के दौरान शॉल, श्रीफल एवं प्रतीक चिन्ह देकर सम्मान किया।

कार्यक्रम का संचालन करते हुए उर्मिला देवी उर्मी ने मुख्य अतिथि के रुप में डॉ.शीला गोयल को मंच पर आमंत्रित किया। साथ ही विशिष्टि अतिथि डॉ.जेके डागर रहे और अध्यक्षता शकुंतला तरार ने की। इनकी मौजूदगी में श्री त्यागी ने 'ओ जाते-जाते फिर मेरी तनहाइयां भी ले गया'...काव्य पाठ करते हुए लोगों की तालियां बटोरीं। किरण लता वैद्य ने 'प्रदूषण से वातावरण कुछ इस कदर प्रभावित है कि बादल भी अब पानी नहीं देते...की प्रस्तुति दी। इनके बीच राजधानी के युवा कवियों ने भी अपनी छाप छोड़ी और साहित्य मंडल से जुड़े कवियों की तालियां बटोरीं।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना