रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

अगर आपको पैसे की अचानक जरूरत पड़ जाए और लोन लेने के बहुत से विकल्पों के बावजूद आपको लोन नहीं मिल पा रहा है। ऐसी स्थिति में अब आपके पास एक और विकल्प है और वह विकल्प म्यूचुअल फंड है। म्युचुअल फंड निवेश बाजार के जोखिम के अधीन हैं, इसलिए, कभी भी उस पैसे का निवेश न करें जो जिसकी जरूरत आपको इमरजेंसी के वक्त पड़ सकती है। केवल उस पैसे को निवेश करें जिसे आप लंबे समय तक छोड़ सकते हैं। शेयर बाजार में निवेश करने का सबसे सरल तरीका म्युचुअल फंड में निवेश करना होता है। बैंक और कई एनबीएफसी कंपनियां म्युचुअल फंड में निवेश किए गए पैसों पर लोन देते हैं। नईदुनिया अपनी इस खबर के जरिए आपको बता रहा है कि आप किस प्रकार से एमएफ से लोन ले सकते हैं।

ऐसे मिलता है लोन

विशेषज्ञों से मिली जानकारी के अनुसार आप म्युचुअल फंड यूनिट के बदले बैंक या फिर एनबीएफसी (नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी) से लोन ले सकते हैं। म्युचुअल फंड के एवज में कर्ज लेने के लिए, आपको फाइनेंसर (कर्जदाता) के साथ एक कर्ज समझौता करना होगा। फाइनेंसर फिर म्युचुअल फंड रजिस्ट्रार से अनुरोध करेगा ताकि वो म्युचुअल फंड जिसके एवज में कर्ज दिया जाना है उसकी यूनिट्स पर लोन मार्क कर दे। बैंक या एनबीएफसी आपको निश्चित अवधि तक के लिए लोन देगा जो आपको इसी अवधि में लौटाना भी होगा।

इतनी होगी लोन की रकम

लोन के रूप में मिलने वाली कर्ज राशि आपकी म्यूचुअल फंड यूनिट की मार्केट वैल्यू से हमेशा कम होती है। यह मार्जिन कहलाता है। लोन की राशि पूरी तरह से फाइनेंसर पर निर्भर करती है, लेकिन ये 10 से 12 फीसद तक हो सकती है ताकि पैसे को सुरक्षित रखा जा सके। कई बार देखा गया है कि निवेशकों को छोटी अवधि के लिए मसलन तीन महीनों के लिए तत्काल पैसों की जरूरत होती है।

इन्हें मिल सकता है लोन

भारतीय निवासी, पार्टनरशिप फर्म, प्राइवेट ट्रस्ट, प्राइवेट लिमिटेड कंपनी या पब्लिक लिमिटेड कंपनी।

Posted By: Nai Dunia News Network