रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

रायपुर के कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन गुरुवार को पदभार ग्रहण करने के बाद एक्शन मूड में दिखे। सुबह पहले कलेक्टोरेट स्थित रेडक्रॉस सभाकक्ष में सभी जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक लेकर उन्हें अहम निर्देश दिए। इसके बाद मीडिया से बातचीत करके अपनी प्राथमिकताएं गिनाईं। डॉ. भारतीदासन ने कहा कि उन्होंने शहर में पेयजल के स्तर को बढ़ाने के लिए वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम का शत-प्रतिशत लक्ष्य रखा है। पर्यावरण प्रदूषित हो रहा है। इससे राहत देने के लिए पौधरोपण जरूरी है, लिहाजा पौधरोपण के लिए कार्ययोजना बनाएंगे। वहीं पॉलीथिन मुक्त शहर को लेकर इसके विकल्प खोज रहे हैं।

जलः निगम के माध्यम से वाटर हार्वेस्टिंग का काम

बारिश के जल को संरक्षित किया जाएगा। गिरते भू-जल स्तर को बढ़ाने के लिए सरकारी भवनों में निर्माण एजेंसियों के सहयोग के वाटर हार्वेस्टिंग संरचनाओं का निर्माण कराया जाएगा।

स्वास्थ्यः लोगों को करेंगे जागरूक

बारिश में जल-जनित और मौसमी बीमारियों की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग टीम काम करेगी। लोगों को जल-जनित और मौसमी बीमारियों से बचाव के उपायों के संबंध में जागरूक किया जाएगा। बरसात के दिनों में जलजनित बीमारियों की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य केंद्रों में आवश्यक दवाइयों का भंडारण पर्याप्त रूप से की जाएगी।

सफाईः पॉलीथिन मुक्त शहर

राजधानी को पॉलीथिन फ्री बनाने के साथ पॉलीथिन का क्या विकल्प हो सकता है इस ओर कार्य किए जाएंगे। शहर को स्वच्छ, सुंदर और व्यवस्थित करने के लिए और क्या बेहतर व्यवस्थाएं की जा सकती हैं, उस ओर कार्य किए जाएंगे। इसी तरह बरसात के पूर्व नगरीय निकायों में नालियों की साफ-सफाई आवश्यक रूप कराई जाए, ताकि बरसात में अनावश्यक पानी का जमाव न हो सके।

शिक्षाः पहले दिन सभी स्कूल में हों उपस्थित

24 जून से खुल रहे सरकारी स्कूलों में कोई भी शिक्षक यदि बिना कारण के अनुपस्थिति रहा तो कार्रवाई की जाएगी। मामले में जिला शिक्षा अधिकारी को निर्देशित किया गया है कि शाला प्रारंभ होने के पहले ही छात्र-छात्राओं को पुस्तकें और गणवेश का शत-प्रतिशत वितरण कर दिया जाए। शाला प्रारंभ होने के दिन बिना समुचित कारण के अनुपस्थित रहने वाले शिक्षकों पर कार्रवाई की जाएगी। सभी विकासखंड शिक्षा अधिकारी नियमित रूप से शालाओं का निरीक्षण करें और प्रतिवेदन जिला शिक्षा अधिकारी को प्रस्तुत करें।

कम से कम दो बार तहसील का निरीक्षण करना होगा

राजस्व अधिकारी राजस्व प्रकरणों को शासन द्वारा निर्धारित समयावधि में पूर्ण करने का निदेर्श है। अनुविभागीय अधिकारी राजस्व सप्ताह में कम से कम दो बार तहसील एवं उप-तहसील मुख्यालयों का निरीक्षण करेंगे। बच्चों के जाति, मूल निवास एवं आय प्रमाण पत्र शिविर लगाकर बनाई जाए। आंगनबाड़ी केंद्रों और ग्राम पंचायत कार्यालय का भी नियमित रूप से निरीक्षण किया जाए। लापरवाही करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

धान की सुरक्षा का रखें पर्याप्त इंतजाम

खाद्य विभाग बरसात प्रारंभ होने के पूर्व संग्रहण केंद्रों में रखे धान की सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम सुनिश्चित करे। शासकीय उचित मूल्य की दुकानों से वितरित किए जाने वाले खाद्यान्न का समुचित भंडारण कर लिया जाए। ग्रामीण क्षेत्रों में हैण्डपम्पों के पास गंदे पानी की निकासी के लिए पर्याप्त व्यवस्था हो। बारिश के जल के संरक्षण के लिए सभी शासकीय भवनों में वॉटर हार्वेस्टिंग की व्यवस्था शीघ्र कर ली जाए।

अधिकारियों को सामूहिक निर्देशः डॉ. भारतीदासन ने अधिकारियों से कहा कि विभाग प्रमुख यह ध्यान रखें कि राजधानी में पदस्थ होने का मतलब है पूरे राज्य के लिए एक आदर्श रूप में कार्यों का संपादन किया जाए। शासन की मंशानुरूप तथा आमजनता की अपेक्षाओं को पूरा करते हुए कार्यों को बिना देरी किए गंभीरता से करना है। काम में देरी या लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा कि यह हमारे चुनौती है। आमजन से जुड़ी समस्याओं और उनके आवेदनों का प्राथमिकता से निराकरण हो इसे ओर प्राथमिकता से ध्यान दिया जाएगा।

Posted By: Nai Dunia News Network