रायपुर। बंगाल की खाड़ी में उठे चक्रवाती तूफान 'तितली" का असर गुरुवार को छत्तीसगढ़ के उत्तरी इलाके में भी नजर आया। 140 से 150 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से आगे बढ़ रहे तूफान के असर से गुरुवार को जशपुर जिले में सुबह से रुक-रुक कर बारिश हो रही है। इसके अलावा राज्य के अन्य कई हिस्सों में भी बादल छाने के साथ बारिश के आसार बन रहे हैं।

केंद्रीय मौसम विज्ञान विभाग और लालपुर मौसम विज्ञान विभाग ने 'तितली" को भीषण चक्रवात बताया है। लालपुर मौसम विज्ञान विभाग ने छत्तीसगढ़ के कुछ जिलों को यलो अलर्ट पर रखा है। हालांकि कोई बड़ी चेतावनी जारी नहीं की गई है, लेकिन संपूर्ण प्रदेश में बादल घिरे होने, बूंदाबांदी, मध्यम से भारी बारिश का पूर्वानुमान जारी किया है।

'नईदुनिया" को जानकारी देते हुए मौसम वैज्ञानी एचपी चंद्रा ने बताया कि 'तितली" छत्तीसगढ़ के समानांतर आगे बढ़ रहा है। प्रदेश में आगामी 36 घंटे तक इसका असर रहेगा। खासकर उन सीमावर्ती क्षेत्रों में जो ओडिशा, पश्चिम बंगाल से लगे हुए हैं। बहरहाल छत्तीसगढ़ में अधिकतम तापमान अब स्थिर हो गया है, यह 34 डिग्री पर बना हुआ है।

न्यूनतम तापमान पेंड्रा रोड में 17 डिग्री जा पहुंचा है, अन्य जिलों में तापमान गिरेगा। मौसम विभाग के अनुमान के अनुसार गुस्र्वार की शाम तक राजधानी रायपुर में मौसम का मिलाज बदल सकता है और हल्की बारिश हो सकती है। इसके साथ ही गरियाबंद में मध्यम से भारी बारिश, धमतरी में बादल घिरने की संभावना है। बस्तर में यलो अलर्ट जारी किया गया है। सुकमा, कांकेर, कोरिया से लेकर जशपुर, रायगढ़, बलरामपुर में मध्यम से भारी बारिश का पूर्वानुमान है।