रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

रायपुर से केंवटी तक डीजल इंजन वाली ट्रेनों का परिचालन किया जा रहा है, क्योंकि मरोदा से केंवटी तक विद्युतीकरण का काम नहीं हुआ है। बिजली इंजन नहीं चलने से रेलवे को राजस्व का नुकसान हो रहा है, इसलिए रेलवे ने 116 करोड़ की लागत से विद्युतीकरण का काम शुरू कर दिया है। प्रथम चरण में मरोदा से दल्लीराजहरा तक विद्युतीकरण किया जाएगा। फिर आगे के स्टेशनों तक विद्युतीकरण किया जाएगा। रेलवे के अधिकारी के अनुसार विद्युतीकरण होने से जहां रेलवे का राजस्व बचेगा, वहीं यात्रियों का समय भी बचेगा।

वर्तमान में रायपुर से केंवटी तक 166 किलोमीटर तक ट्रेनों का परिचालन किया जा रहा है। अंतागढ़ से केंवटी तक चार ट्रेनें चल रही हैं। दल्लीराजहरा से दुर्ग तक दो ट्रेनें, रायपुर से केंवटी तक एक, केंवटी से दुर्ग, दल्लीराजहरा तक एक ट्रेन चलाई जा रही है। सभी ट्रेनें डीजल इंजन से चल रही हैं।

रेलवे के अधिकारी ने बताया कि डीजल इंजन के चलने से प्रदूषण होता है वहीं गाड़ियों की गति भी कम होती है। इस रूट पर जाने के लिए ट्रेनों को इंजन बदलना पड़ता है। विद्युतीकरण होने से इंजन नहीं बदलना पड़ेगा, बिजली इंजन लगने से ट्रेनों की गति बढ़ जाएगी और यात्रियों का समय भी बचेगा।

वर्जन

मरोदा से दल्लीराजहरा तक विद्युतीकरण का काम शुरू कर दिया गया है। विद्युतीकरण होने से यात्रियों का समय बचेगा और रेलवे का राजस्व भी बचेगा। -आर. सुदर्शन, सीनियर डीसीएम, रायपुर रेलवे मंडल

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020