रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कर्मचारी राज्य बीमा निगम द्वारा आयोजित मल्टी टास्किंग स्टाफ (एसएससी) परीक्षा में दूसरे के स्थान पर परीक्षा देते हुए पकड़े गए युवक व उसके साथी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। आरोपितों से पूछताछ पता चला कि दूसरे की जगह एसएससी की परीक्षा देने के लिए फर्जी परीक्षार्थी बने युवक को दो लाख रुपये देने की बात कही गई थी। एडवांस के रूप में इसे 30 हजार रुपये भी दिए गए। यह सौदा कराने वाला पुलिस की पकड़ से बाहर है।

टाटा कंसलटेंसी द्वारा आयोजित इस परीक्षा के पूर्व परीक्षार्थियों के दस्तावेजों की जांच में उत्तरप्रदेश के रामपुर मथुरा कोसी निवासी सोनवीर सिंह की तस्वीर भिन्न् मिली। हस्ताक्षर भी नहीं मिल रहे थे। उसके बाद पुलिस की सहायता से परीक्षा दे रहे झारखंड निवासी अश्विनी कुमार को पकड़कर पूछताछ करने पर उसने यह रहस्य खोला। सोनवीर परीक्षा कक्ष के बाहर बैठा था। उसे भी पकड़ लिया गया। इनसे पुलिस को पता चला कि अज्जू नाम का व्यक्ति इनके बीच मध्यस्थ था। पैसों का लेन-देन वही कर रहा था।

क्‍या है पूरा मामला

राजधानी में एक बार फिर फर्जी परीक्षार्थी पकड़े गए हैं। पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, 5 जुलाई को एसएससी की परीक्षा राजधानी में टाटा कंसल्टेंसी द्वारा आयोजित की गई थी। आईडीजेड सरोना स्थित पार्थिवी प्रोविंस कमर्शियल काम्पलेक्स स्थित परीक्षा सेंटर में सोनवीर सिंह की जगह अश्विनी कुमार को परीक्षा देते हुए पर्यवेक्षक ने पकड़ा। इसकी जानकारी तत्काल पुलिस को दी गई। दोनों झारखंड के बताए जा रहे हैं।

शिकायतकर्ता टाटा कंसल्टेंसी के आपरेशन एक्जीक्यूटिव सागर शर्मा ने बताया कि पर्यवेक्षकों द्वारा पकड़े जाने पर पहले तो अश्विनी ने बरगलाने की कोशिश की लेकिन बाद में सख्ती करने पर पूरी साजिश बताई। उसने सेंटर के बाहर बैठे सोनवीर का भी पता बता दिया। शिकायत के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया है।

परीक्षा के दौरान जांच में यह पाया गया कि सोनवीर का प्रवेश पत्र तथा आधार कार्ड अश्वनी द्वारा पेश किया गया, जिसमें फोटो तथा हस्ताक्षर अलग-अलग थे। इसी देखकर पहले शक हुआ, जिसके आधार पर पूछताछ हुई। मामले में आरोपित अश्विनी कुमार एवं सोनवीर सिंह के विरूद्ध अपराध धारा 420,468,471,34 भादवि का पाए जाने से अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में ले लिया गया है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close