रायपुर (राज्य ब्यूरो)। बेमौसम बारिश ने धान उत्पादक किसानों की मुश्किल बढ़ा दी है। सरकारी खरीदी केंद्रों में भीगा धान नहीं खरीदा जा रहा है। वहीं मंडी शुल्क बढ़ने के बाद से ज्यादातर कृषि उपज मंडियों में सही भाव नहीं मिल रहा है। इससे एक तरफ किसान परेशान हैं तो दूसरी तरफ सियासत तेज हो गई है। भाजपा ने सरकार पर किसानों का धान रिजेक्ट करने का आरोप लगाते हुए कहा कि इससे फिर साबित हो गया कि कांग्रेस सरकार किसान विरोधी है। वहीं कांग्रेस किसानों को बरगलाने के लिए भाजपा पर झूठ और फरेब की राजनीति करने का आरोप लगा रही है।

राजनांदगांव मंडी में बढ़ गया दाम

मंडी शुल्क में वृद्धि के बाद राज्य की ज्यादातर कृषि उपज मंडियों में धान के दाम गिरने की श्ािकायतें मिल रही हैं। इसके विपरीत राजनांदगांव में दाम बढ़ गए हैं। समर्थन मूल्य में धान की खरीदी शुरू होने के बाद वहां मंडी में 115 से 150 रुपये क्विंटल तक धान का भाव बढ़ा है। सप्ताह भर पहले जो धान 1,450 रुपये में बिक रहा था, वर्तमान में वह 1,575 से 1,600 रुपये प्रति क्विंटल में व्यापारी खरीद रहे हैं।

राजिम में विवाद, धमतरी में मंडी बंद

मंडी में कम कीमत मिलने से राजिम मंडी में श्ानिवार को विवाद हो गया था। व्यापारी मंडी श्ाुल्क बढ़ने का हवाला देकर महज हजार रुपये प्रति क्विंटल की दर पर बोली श्ाुरू करा रहे थे। प्रश्ाासन और मंडी प्रबंधन के हस्तक्षेप के बाद सोमवार से व्यापारियों ने बोली थोड़ी बढ़ाई है। वहीं मंडी श्ाुल्क बढ़ने के साथ से धमतरी कृषि उपज मंडी बंद है। वहां के निरीक्षक संजीव वाहिले ने बताया कि मंडी शुल्क में वृद्धि के विरोध में चार दिसंबर से मंडी में धान की खरीदी नहीं हो रही है।

नमी और लाल होने के नाम पर कर रहे रिजेक्ट

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा कि कीट-प्रकोप, बीमारियों और बेमौसम बारिश की मार से धान के उत्पादन में गिरावट आई है। किसान जैसे-तैसे अपनी फसल बचाकर खरीदी केंद्रों में समर्थन मूल्य पर धान बेचने पहुंच रहे हैं तो वहां नमी और धान के लाल होने की बात करके रिजेक्ट कर दिया जा रहा है। साय ने कहा कि किसानों की फसल रिजेक्ट करके प्रदेश सरकार किसानों को प्रताड़ित करने का काम कर रही है। अगर किसानों का धान खरीदने में प्रदेश सरकार इसी तरह आनाकानी करेगी तो किसान अपना कर्ज कैसे चुका पाएंगे?

धान खरीदी में बाधा उत्पन्न कर रही भाजपा

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा कि मोदी व भाजपा सरकार के षड्यंत्र के बावजूद राज्य में धान खरीदी सुचारू रूप से हो रही है। प्रदेश के भाजपा नेता आज भी धान खरीदी में बाधा उत्पन्न करने के लिए किसानों को बरगलाने के लिए झूठ-फरेब की राजनीति कर रहे हैं। राज्यभर के धान खरीदी केंद्रों में धान खरीदी निर्बाध रूप से चल रही है। भाजपा के नेता जो खुद को किसानों हितैषी बताते हैं, वह भी मोदी सरकार के किसान विरोधी नीतियों के समर्थन में खड़े हैं। उनके किसान विरोधी चेहरे को राज्य की जनता पहचान ली है।

Posted By: Ravindra Thengdi

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close