रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

खरोरा के देना बैंक के सामने डायल-112 को सूचना मिली कि एक महिला वहां अकेली है और वह रो रही है। सूचना मिलने के आठ मिनट में 112 की टीम मौके पर पहुंच गई और महिला को उसके गांव पहुंचाया दिया।

निर्मला ने 112 की टीम को बताया कि उसे खरोरा से ग्राम आलेसुर ससुराल जाना था। आखिरी बस थी छह बजे की तकरीबन वह छूट गई। जैसे-जैसे अंधेरा बढ़ता जा रहा था। डर भी बढ़ता जा रहा। मोबाइल फोन भी नहीं था कि किसी को बुला सकूं। निर्मला ने पुलिस को रोने की वजह बताई बताया कि आए दिन महिलाओं के साथ घटित हो रही घटना से वह काफी डरी हुई थी। आसपास कोई दिख भी नहीं रहा था। कुछ गाड़ियां आ जा रही थी। किसी ने मदद नहीं की। वहीं से गुजर रहे एक राहगीर ने शाम 6.33 बजे डायल 112 में सूचना दी। जानकारी दी गई कि एक महिला रो रही है उसे अपने घर ग्राम आलेसुर जाना है। सूचना पर तत्काल डायल 112 की खरोरा टाइगर-2 टीम को रवाना किया गया। पुलिस ने महिला को ससुराल ग्राम आलेसुर पहुंचाकर उसके परिजन को सुपुर्द किया गया।

पुलिस को देख चेहरे पर खुशी

पुलिस टीम ने बताया कि 32 वर्षीय महिला निर्मला डर की वजह से रो रही थी। टीम को देखकर उसके अंदर का डर समाप्त हो गया। उसने बताया कि उसी आखिरी बस छूट गई थी। रात होने की वजह से डर भी लग रहा था। पुलिस को देखते ही उसके चेहरे पर खुशी आ गई।

प्रदेश में एक रात में 10 की मदद

रविवार और सोमवार की दरम्यानी रात 12 बजे के बाद डायल 112 पर सूचना मिली थी कि दुग जिले के थाना सुपेला के सूर्या मॉल के पास तीन महिलाओं को घर जाने का साधन नहीं मिल राह है। मोहन नगर चीता-2 की टीम वहां पहुंची और महिलाओं को घर तक छोड़ा। दुर्ग में ही भिलाई से सुपेला जाने वाली रोड पर एक लड़की को साधन नहीं मिल रहा था। वह नागपुर से भिलाई परीक्षा देने आई थी, सुपेला के एक होटल में रूकी थी। रात हो जाने से उसे होटल जाने के लिए साधन नहीं मिल पा रहा था। टीम ने मदद की।

रात दो बजे पेट्रोल खत्म, मिली मदद

उधर सरगुजा में बीती रात थाना कापू के मेहता पाइंट से 7-8 किमी आगे जंगल में एक कार खड़ी हो गई थी, उसमें महिलाएं भी थी। सूचना पर पहुंची टीम ने पाया कि कार का तेल खत्म हो गया था। कार में दो महिलाएं, छह पुरुष थे। टीम ने पेट्रोल पंप से डीजल उपलब्ध करवाया।

वर्सन

आवश्यकता होने पर ही मदद लें

मुख्यमंत्री और पुलिस महानिदेशक के आदेश के बाद डायल-112 की टीम पूरी तत्परता से महिलाओं की सहायता कर रही। इस सुविधा का फायदा उठाएं लेकिन यह भी ध्यान रखें कि इसका गलत उपयोग न हो।

- धर्मेंद्र सिंह, एआइजी, डायल-112

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket