श्रवण शर्मा, रायपुर। जरूरत पर पुराना पंचांग ढूंढने की जरूरत क्या पड़ी, रायपुर की शुभांगी को पुराने पंचांग संग्रह करने का जुनून सवार हो गया। चार साल में उन्होंने 15 भाषाओं के 305 पंचांग एकत्र कर लिए। इस शौक के चलते शुभांगी का नाम लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज है।

रायपुर के टैगोर नगर निवासी 62 वर्षीय समाजसेवी शुभांगी आप्टे बतातीं हैं कि करीब चार साल पहले उनकी पड़ोसन उनके पास आईं, उन्हें कुछ साल पहले की किसी खास तिथि पर पड़ने वाली तारीख के बारे में जानना था। आसपास किसी के पास उस साल का पंचांग नहीं था।

आखिरकार जैसे-तैसे कंप्यूटर के माध्यम से पड़ोसन को तिथि और तारीख के बारे में जानकारी उपलब्‍ध

करवाई। इसके बाद शुभांगी को पंचांग एकत्र करने का ख्याल आया। उन्होंने अपने जान-पहचान वालों, पंडित, पुजारियों, सत्ती बाजार, सदर बाजार की पुस्तक की दुकानों से ढूंढ-ढूंढकर पंचांग एकत्रित करना शुरू कर दिया। कुछ पंचांग बिना पैसे दिए मिल गए, वहीं कुछ के लिए दुकानदारों को तिगुनी-चौगुनी कीमत अदा करनी पड़ी।

15 भाषाओं के 305 पंचांग

उनके पास हिंदू संवत्सर 1975 से लेकर वर्तमान हिंदू संवत्सर 2077 तक के पंचांग हैं। हिंदी, मराठी, बंगाली, ओड़िया, गुजराती, राजस्थानी, तेलुगू, तमिल, कन्नड़, मलयालम, उर्दू, अरबी, अंग्रेजी आदि भाषाओं के अलावा चायनीज भाषा का भी पंचांग उनके पास हैं। वे अब तक करीब 15 भाषाओं के 305 पंचाग जमा कर चुकीं हैं।

अब पंडित-पुजारी करते हैं संपर्क

शुरुआत में शुभांगी आप्टे शहर के हर छोटे-बड़े पंडित, आचार्य, कथावाचकों के पास जाकर पुराने पंचांग एकत्र करतीं थीं, अब वही लोग जरूरत पड़ने पर पुराने पंचांग के लिए उनसे संपर्क करते हैं।

रिकार्ड के लिए चाहिए थे 100 पंचांग

अलग-अलग सालों और भाषाओं के करीब 100 पंचांग होने पर शुभांगी को लिम्का बुक में जगह मिल जाती, हालांकि शुभांगी के पास 280 पंचांग थे, रिकॉर्ड के बाद 25 और पंचांग उनके पास आ गए।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020