रायपुर, राज्य ब्यूरो। Forest Produce In Chhattisgarh: छत्तीसगढ़ में लघु वनोपजों की खरीदी तय लक्ष्य से कम की जा रही है। विभिन्न माध्यमों से राज्यपाल अनुसुईया उइके तक इसकी जानकारी पहुंची है। इसे लेकर उन्होंने वन मंत्री मोहम्मद अकबर को पत्र लिखा है। पत्र में राज्यपाल ने संग्रहकों की समस्याओं का जिक्र करते हुए शीघ्र समाधान करने के निर्देश दिए हैं।

वन मंत्री को लिखे पत्र में राज्यपाल ने कहा कि राज्य में निर्धारित लक्ष्य की तुलना में खरीदी कम की जा रही है। इमली के निर्धारित लक्ष्य की 50 फीसद भी खरीदी नहीं गई है। घोषित सीजन शेष रहने के बावजूद भी खरीदी बंद कर दी गई। इससे संग्राहकों को कम मूल्य पर इमली बिचौलियों के पास बेचना पड़ा।

फूड ग्रेड महुआ चार हजार क्विंटल का लक्ष्य था, लेकिन खरीदी इससे बहुत कम की गई। इससे खाद्य सामग्री बनाए जाने करोड़ों रुपये के लागत का संयंत्र राजनांदगांव में है, जो सामग्री नहीं होने के कारण बंद है। पिछले सीजन में तेंदूपत्ता की खरीदी घोषित लक्ष्य से कम की गई है, जिससे संग्राहकों को करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ।

लघु वनोपज सहकारी संघ मर्यादित रायपुर की अव्यवस्था के कारण लगभग 1.50 लाख संग्राहक परिवारों ने संग्रहण कार्य नहीं किया। राज्यपाल ने संग्राहकों को लाभांश की राशि नहीं मिलने की शिकायत के संबंध में भी सवाल किया है। राज्यपाल ने लिखा है कि 2018 की बोनस राशि कई संग्राहकों के खाते में आज तक नहीं आई है।

सीजन 2019 के बोनस राशि की गणना अभी तक पूरी नहीं की गई है। वहीं सीजन 2020 की बोनस की गणना अभी शुरू ही नहीं हुई है। इसी तरह प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना के पूर्व के प्रकरण अभी तक लंबित हैं। राज्यपाल ने इस पूरे मामले में वस्तुस्थिति और की गई कार्यवाही से अवगत कराने के निर्देश दिए हैं।

Posted By: Azmat Ali

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags