रायपुर। छत्तीसगढ़ में लोकसभा चुनाव को लेकर भाजपा के लोकसभा प्रभारियों, संयोजकों, जिलाध्यक्षों की बैठक एकात्म परिसर में हुई। राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल ने करीब दो घंटे में पदाधिकारियों के सामने चुनाव का रोडमैप पेश किया।

रामलाल ने जिलाध्यक्षों से पिछले छह कार्यक्रमों के बारे में पूछा, तो अगले दो महीने की कार्ययोजना भी पेश की। यही नहीं, रामलाल ने सांसदों को दो टूक कहा कि चुनाव में टिकट मिले या न मिले, जिसे पार्टी उम्मीदवार बनाती है, उसके पक्ष में काम करना है।

दरअसल, विधानसभा चुनाव में भितरघात की खबरों के बाद रामलाल ने सांसदों को ताकीद किया। बताया जा रहा है कि उन्होंने सांसदों को सांसद निधि के पूरे इस्तेमाल का निर्देश दिया। यही नहीं, विधानसभा चुनाव में पार्टी उम्मीदवार के खिलाफ काम करने वाले नेताओं को भी साथ लाने का निर्देश दिया।

सूत्रों की मानें तो रामलाल ने कहा कि विधानसभा चुनाव में जो हुआ, उसे भूल जाओ। पार्टी पदाधिकारियों को विशाल मन से काम करने की जरूरत है। जहां नाराजगी है, उसे दूर करके सबको साथ मिलकर काम करने की जरूरत है।

भाजपा के उच्च पदस्थ सूत्रों की मानें तो पार्टी को विधानसभा चुनाव की तरह लोकसभा में भी भितरघात की आशंका सता रही है। इसे दूर करने के लिए पार्टी के करीब 175 बड़े नेताओं से रामलाल ने सीधा संवाद किया। नाराज नेताओं से अलग से भी चर्चा की और आगामी कार्ययोजना के बारे में जानकारी दी। रामलाल ने साफ कहा कि जो खिलाफ काम किये हैं, उनको भी साथ लेकर चलना है।

दिल्ली में अर्जेंट बैठक, लौट गये शाह

अमित शाह को दिल्ली में एक अर्जेंट मीटिंग में शामिल होना था, इसलिए वे कोर ग्रुप और पार्टी पदाधिकारियों की बैठक में शामिल नहीं हुए। रामलाल ने शाह के संदेश को पदाधिकारियों को सुनाया। बताया जा रहा है कि बैठक में उम्मीदवार चयन को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई है।

विधानसभा स्तर पर होंगे सम्मेलन

भाजपा अब विधानसभा स्तर पर सम्मेलन करेगी। इसमें हितग्राहियों से संपर्क करने के साथ मोदी सरकार की योजनाओं के बारे में जानकारी दी जाएगी। पुलवामा हमले के बाद की मोदी सरकार की उपलब्धियों को भी जनता के बीच पहुंचाया जाएगा।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close