रायपुर। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी को रणछोड़ दास गांधी बताया है।

भाजपा कार्यालय एकात्म परिसर में पत्रकारों से चर्चा में शिवराज ने कहा कि जब कोई जहाज डूबता है तो कैप्टन अंतिम समय तक जहाज में रुक कर सबको बचाता है, लेकिन जब कांग्रेस की नैया डूबी तो सबसे पहले अध्यक्ष ही पार्टी छोड़ कर भागे।

मोतीलाल वोरा के बयान पर शिवराज सिंह ने पलटवार करते हुए कहा कि जब कैप्टन ही नाव छोड़कर भाग गए तो विधायक क्यों नहीं भागेंगे। कर्नाटक संकट पर उन्होंने कहा कि वहां जब से जेडीएस और कांग्रेस सरकार बनी है, उसी दिन से सिद्धारमैया डंडे लेकर कुमारस्वामी के पीछे पड़े हैं। सिद्धारमैया ही सरकार गिराने का प्रयास कर रहे है।

शिवराज ने कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ माह में कांग्रेस की पोल खुल गई है। बड़े-बड़े वादे किए थे, कर्ज माफ करने की बात हुई थी, लेकिन वह भी नहीं हुआ। राहुल गांधी ने कहा था 10 दिन में कर्ज माफ नहीं हुआ तो मुख्यमंत्री बदल दिया जाएगा।

अब राहुल गांधी को राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के किसानों से माफी मांगनी चाहिये। छत्तीसगढ़ में बिजली बिल माफ नहीं हुआ। वादे जो पूरे नहीं हुए, जिसे जनता ने देखा और आज उन्हें इस स्थिति में लाकर खड़ा कर दिया। छत्तीसगढ़ में सरकार है या नहीं पता ही नहीं चल रहा, अब तक मुख्यमंत्री केवल प्रतिशोध में लगे रहे।


धर्मगुरु से मिले, प्रोफेशनल्स को दिया सदस्यता का ई-कार्ड

शिवराज सिंह सुबह शदाणी दरबार गए। वहां युधिष्ठिर महाराज से अशीर्वाद लिया और पौधरोपण किया। शिवराज धर्मगुरु रावतपुरा महाराज के आश्रम भी गए और आशीर्वाद लिया। उन्होंने प्रोफेशनल्स को ई-कार्ड दिया और जनसंघ के जमाने के वरिष्ठ पदाधिकारियों को सम्मानित किया। गोंदवारा में दलित बस्ती में सदस्यता अभियान चलाया।