रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। Fraud In Raipur: राजधानी के विधानसभा थाने में एमबीबीएस में प्रवेश और पीडब्ल्यूडी विभाग में नौकरी दिलाने के नाम पर लाखाें रुपये की ठगी का मामला सामने आया है। आरोपित खुद को मंत्रियों का करीबी बातकर 23 लाख रुपये एंठ लिए। विधानसभा थाना पुलिस ने शिकायत पर आरोपित पर 420 का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। विधानसभा थाना प्रभारी बृजेश तिवारी ने बताया कि पावर हाउस चौक तोरवा बिलासपुर निवासी रीता बाजपेयी और उसके पति प्रदीप बाजपेयी के साथ ठगी हुई है। रायपुर के सड्डू इलाके में रहने वाले किशोर कुमार शर्मा ने यह ठगी की है। पीड़ित दंपत्ति की आरोपित रायपुर निवासी किशोर शर्मा से उनके एक परिचित संजय प्रधान ने मुलाकात कराई थी।

संजय प्रधान ने ही कहा था कि किशोर शर्मा की मंत्रालय में अच्छी पहुंच है। कई लोगों की नौकरी लगवाई है। जिसके बाद दंपत्ति उनकी बातों में आ गए। महिला ने बताया कि 2019 में परिचय होने के बाद नौकरी लगाने की पक्की बात कही थी। रुपये लेने के बाद जब नौकरी नहीं लगी और न ही भतीजे का एडमिशन हुआ तो महिला ने अपने पैसे वापस मांगे। एक साल आरोपित घूमाता रहा। इसके बाद उसने खुद पीड़िता को फोन करके रायपुर बुलाया और तीन लाख रुपये दिए। इसके बाद जल्द ही सारी रकम लौटाने की बात कही, लेकिन एक साल से ज्यादा समय बीतने के बाद भी पैसे वापस नहीं किए। बचे हुए 20 लाख रुपये के लिए महिला और उसके पति ने कई बार संपर्क करने की कोशिश की लेकिन नंबर बंद मिला।

कई बार घर तो रायपुर में दिए गए पैसे

पीडि़ता ने बताया कि आरोपित किशोर कुमार शर्मा के सद्दू रायपुर में किराये के मकान में जाकर नगद तीन लाख रुपये दिए थे।यह पैसे भतीजे का एमबीबीएस में प्रवेश दिलाने का नाम पर लिया। इसके बाद पति की पीडब्ल्यूडी विभाग में नौकरी लगवाने के नाम पर सात लाख 50 हजार रुपये लिए। इसके बाद बिलासपुर घर पहुंच कर अलग-अलग किश्तों में 23 लाख रुपये ले लिए।

Posted By: Kadir Khan

NaiDunia Local
NaiDunia Local