रायपुर। Chhattisgarh News : राज्यपाल अनुसुईया उइके ने कहा कि भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी का पद बड़ी जिम्मेदारी और संवेदनशीलता का होता है। गरीब और जरूरतमंद व्यक्तियों को उनसे बहुत अपेक्षाएं होती है। वे जब आपके पास आते हैं तो यह मानकर चलते हैं कि उनकी समस्याओं का समाधान होगा।

यदि आम जनता आपके पास अपनी समस्याएं लेकर आते हैं तो उनसे जरूर मिलें और उनकी बात को धैर्यपूर्वक सुनें तथा उनकी समस्याओं के समाधान का हरसंभव प्रयास करें।

राज्यपाल उइके ने यह बात गुरुवार को उनके मिलने राजभवन पहुंचे राज्य प्रशासनिक सेवा से भारतीय प्रशासनिक सेवा में पदोन्न्त हुए अधिकारियों से कही। राज्यपाल ने भारतीय प्रशासनिक सेवा में पदोन्न्त होने पर उन्हें बधाई और शुभकामनाएं दी। राज्यपाल ने कहा कि शासन द्वारा संचालित योजनाओं की न केवल जानकारी दें, बल्कि जरूरतमंद लोगों को उन योजनाओं से लाभांवित करने का प्रयास करें।

छत्तीसगढ़ पांचवी अनुसूची में सम्मिलित राज्य है। यहां के अधिकांश क्षेत्र पांचवी अनुसूची के अंतर्गत आते हैं। उनके प्रावधानों की जानकारी रखें और उन्हें शासन की मंशा के अनुरूप लाभ दिलाएं। इस अवसर पर राज्यपाल ने भारतीय प्रशासनिक सेवा में पदोन्न्त अधिकारियों को प्रतीक चिंह और काफी टेबल बुक प्रदान किया।

इस अवसर पर मुख्य सचिव की उप सचिव जयश्री जैन, उच्च शिक्षा संचालनालय की अपर संचालक चंदन त्रिपाठी, कोरबा की अपर कलेक्टर प्रियंका ऋषि महोबिया, जिला पंचायत बलौदाबाजार की सीईओ डा. फरिहा आलम, राजभवन की उप सचिव रोक्तिमा यादव, राज्य निर्वाचन आयोग के उप सचिव दीपक कुमार अग्रवाल और जिला पंचायत, बलरामपुर की सीईओ तुलिका प्रजापति उपस्थित थे।

Posted By: Kadir Khan

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close