रायपुर। Hello Naidunia : अनलाक के बाद शुरू हुई लोकल ट्रेनों के किराए में हुई बढ़ोतरी जल्द कम होगी, लेकिन कुछ समय के लिए इंतजार करना होगा। क्योंकि कोविड-19 के दौर में बंद पड़ी ट्रेन व्यवस्था को एक बार फिर से पटरी पर लाने में थोड़ा समय जरूर लगेगा।

यात्रियों को बेहतर सुविधा देने के लिए भारतीय रेलवे सेवा हमेशा तत्पर है, लेकिन महामारी के दौरान बंद ट्रेनों को सही तरह से संचालन करना एक बड़ा चैलेंज है। इसलिए सिर्फ स्पेशन ट्रेनें ही चलाई गई है।

वहीं दुर्ग रहवासी राकेश पांडेय ने फोन कर कहा कि साहब...इलाज के लिए मुंबई स्थित टाटा मेमोरियल अस्पताल में महीने में आना-जाना पड़ता है। दुर्ग, बिलासपुर से मुंबई के लिए कोई ट्रेन नहीं चलती है। ऐसे में उनके जैसे कई लोगों को मुंबई जाने के लिए सीट उपलब्ध नहीं हो पाती है।

ट्रेन की सुविधा शुरू होने से राहत मिल जाएगी। मंगलवार को नईदुनिया के साप्ताहिक कार्यक्रम में पहुंचे डा. विपिन वैष्णव, (वरिष्ठ मंडल वाणिज्य) रेलवे मंडल, रायपुर ने पाठकों के कई सवालों का जवाब दिया। इस दौरान कई फोन बंद ट्रेनों को शुरू करने के लिए भी आए, जिस पर उन्होंने होली के आसपास गोदिया बरौनी, रीवा विलासपुर समेत उत्तर, दक्षिण भारत के लिए जल्द ट्रेन शुरू होने का आश्वासन भी दिया।

सवाल- साहब, इलाज के लिए मुंबई जाना पड़ता है। दुर्ग से मुंबई के लिए कब ट्रेन शुरू होगी? - राकेश पांडेय, दुर्ग

जवाब- नई ट्रेन शुरू करने से पहले कई विषयों पर निरीक्षण किया जाता है, क्योंकि लंबी अवधि की ट्रेनों को हर स्टेशन में रोका नहीं जा सकता है। आपके सुझाव पर जरूर विचार किया जाएगा।

सवाल- हमारे इलाके सिहावा में ट्रेन कब से शुरू होगी ? भुवन लाल साहू, सिहावा

जवाब - आपके विचार को जरूर ध्यान में रखा जाएगा, लेकिन ट्रेन शुरू करने के लिए यात्रियों की संख्या, ट्रेन की आवाजाही को देखा जाता है। उसके आधार पर ही नई ट्रेन की व्यवस्था शुरू होती है।

सवाल- बढ़ती महंगाई में ट्रेन का किराया बढ़ा दिया गया, किराया कब कम होगा ? -शालू सूर्या राव, रायपुर

जवाब -देखिए आपकी भावनाओं को समझ सकता हूं, लेकिन मौजूदा परिस्थिति में कोविड स्पेशल ट्रेनों को शुरू करने का एक मात्र यही विकल्प था, जो कि रेल मंत्रालय, भारत सरकार से लिया गया है।

सवाल- यात्रियों को काफी परेशानी हो रही है, गोंदिया बरौनी ट्रेन कब से शुरू होगी ? -गण्ोश शुक्ला, पुराना भिलाई

जवाब - लगभग ग्यारह माह तक ट्रेन का संचालन ठप था, अनलाक के बाद स्थिति को बेहतर करने का प्रयास किया जा रहा है। थोड़ा सब्र करने की जरूरत है, जल्द ही गोंदिया बरौनी ट्रेन भी शुरू की जाएगी।

सवाल- बगैर टिकट के लोग ट्रेन में चढ़ जाते हैं, इस पर रोक क्यों नहीं लग रही ? कृष्ण कुमार गंजीर, कांकेर

जवाब -कोरोना संक्रमण में सिर्फ टिकट यात्रियों को ही स्टेशन, ट्रेन में सफर करने की अनुमति है। यदि उल्लंघन हो रहा है तो स्टेशन के टीटी को बताए।

सवाल-स्टेशन के आसपास असामाजिक तत्वों का जमावड़ा बढ़ रहा है, कार्रवाई क्यो नहीं होती ? - नरेंद्र कुमार सिंह, रायपुर

जवाब - स्टेशन सहित आसपास के परिसरों में असामाजिक तत्वों को रोकने के लिए संबंधित स्टेशन के आरपीएफ को सूचना दे सकते हैं, जिससे छुटकारा मिल जाएगा।

सवाल- डीआरएम की तरफ से जाने वाला रास्ते पर हर वक्त जाम लगता है, छुटकारा कब मिलेगा ? - नरेंद्र कुमार सिंह, रायपुर

जवाब -फाफाडीह वाल्टेयर की तरफ से जाने वाले रास्ते में जाम से लोगों को छुटकारा जल्द मिलेगा, इसलिए लिए अंडरब्रिज बनाने का कार्य शुरू हुआ है।

सवाल - गोदिया-बरौनी ट्रेन बंद है। कब से शुरू होगी, बताइए? आरपी सिंह, पुरानी भिलाई

जवाब - संचालित ट्रेनों के अलावा बंद ट्रेने भी जल्द शुरू होगी। इसके लिए प्रस्ताव भेजा दिया गया है।

सवाल - बारह लोकल ट्रेनों के साथ और लोकल ट्रेनें कब शुरू होंगी ? - सतीश जैन, रायपुर

जवाब - नई लोकल ट्रेन जल्द शुरू होगी, होली के आसपास लोकल ट्रेनों की संख्या बढ़ेगी ।

वित्तीय वर्ष 2020-21 में 404 करोड़ स्र्पए हुए आवंटित

रेल बजट वर्ष 2021- 2022 में आधारभूत संरचना एवं यात्री सुविधाओं पर विशेष ध्यान दिया गया है। विगत वित्तीय वर्ष 2020-21 में जहां यात्री सुविधाओं के मद में 118 करोड़ रुपये आवंटित किए गए थे। वही 2021-22 के बजट में यात्री सुविधाओं के मद में 404 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है।

वित्तीय वर्ष 2021-2022 के लिए 5050 करोड़ रुपया का आवंटन किया गया। छत्तीसगढ़ राज्य के लिए के लिए 3,650 करोड रुपये का आवंटन किया गया। यह वित्तीय वर्ष 2009-2014 के औसत बजट आवंटन से 1074% तथा 2014-2019 के औसत बजट आवटन से 38% अधिक है।

मील का पत्थर साबित होगी कारिडोर योजना

आर्थिक विकास के लिए ईस्ट वेस्ट डेडीकेटेड फ्रेट कारिडोर भुसावल नागपुर दानकुनी दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे से होकर गुजरेगी। इससे निश्चित तौर पर छत्तीसगढ़ के आर्थिक विकास के लिए यह डेडीकेटेड फ्रंट कॉरिडोर योजना मील का पत्थर साबित होगी। आधारभूत संरचना के विकास को फोकस करते हुए नई लाइन, डबलिंग, गेज कंवर्जन, रेल विद्युतीकरण योजना पर व्यापक कार्य प्रगति पर है। इसी तरह से छत्तीसगढ़ में पूर्णता या अंशत: 2900 किलोमीटर की 42083 करोड़ लागत की परियोजना प्रगति पर है।

कई योजनाएं प्रगति पर चल रहीं

आठ नई लाइन परियोजना, 10 दोहरी, तिहरी चौथी लाइन परियोजना सहित एक रेल विद्युतीकरण परियोजना इसके अंतर्गत कार्य कर रही है।

नई लाइन परियोजनाओं में दल्ली राजहरा जगदलपुर लाइन, खरसिया धरमजयगढ़ लाइन, पेंड्रा रोड गेवरा रोड लाइन तथा डबलिंग ट्रिपलिंग एवं चौथी लाइन परियोजनाओं में बिलासपुर उसलापुर फ्लाईओवर, मंदिर हसौद न्यू रायपुर केंद्री लाइन, चांपा झारसुगुड़ा, थर्ड लाइन, राजनांदगांव नागपुर थर्ड लाइन, झारसुगुड़ा बिलासपुर चौथी लाइन, गेवरा रोड पेंड्रा रोड डबलिग आदि परियोजनाएं प्रगति पर हैं ।

नई लाइनों का हो रहा निर्माण

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे को वर्ष 2021-2022 के बजट आवंटन में नई लाइनों के निर्माण के लिए 1,116 करोड़, गेज कंवर्जन के लिए 296 करोड़, दोहरी लाइन, तीसरी लाइन एवं चौथी लाइन के लिए 1817 करोड़, ट्रैफिक फैसेलिटीज के लिए 81 करोड़, रोड सेफ्टी वर्क के लिए 573 करोड़, ट्रैक रिनुअल के लिए 570 करोड़, ब्रिज वर्क के लिए 25 करोड़, सिग्नल एवं टेलीकाम वर्क के लिए 93 करोड़ अन्य इलेक्ट्रिकल वर्क के लिए 21 करोड़, वर्कशाप के लिए 32 करोड़, कर्मचारी कल्याण के लिए 18 करोड़ सहित यात्री सुविधाओं के लिए 404 करोड़, प्रशिक्षण के लिए तीन करोड रुपये का बजट आवंटन किया गया ।

Posted By: Kadir Khan

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags