रायपुर। छत्तीसगढ़ में भाजपा संगठन का अब विस्तार होगा। प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी की टीम में करीब एक दर्जन नए चेहरों को जगह मिलेगी। इसके साथ ही मोर्चा-प्रकोष्ठ में भी बदलाव होगा।भाजपा केंद्रीय संगठन ने राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में अमित शाह के कार्यकाल को चार राज्यों के विधानसभा चुनाव तक बढ़ा दिया है। इसके साथ ही छत्तीसगढ़ में संगठन विस्तार पर भी केंद्रीय संगठन ने सहमति दी है। प्रदेश संगठन के महामंत्री संतोष पांडेय और उपाध्यक्ष सुनील सोनी सांसद चुने गए हैं। इसके साथ ही कई पद रिक्त हैं, जिसे भरने की सहमति मिल गई है।

भाजपा के उच्च पदस्थ सूत्रों की मानें तो विधानसभा चुनाव में हार का सामना करने वाले दिग्गज नेताओं को संगठन में जगह मिल सकती है। विधानसभा चुनाव में भाजपा को करारी हार का सामना करना पड़ा था और सिर्फ 15 विधायक ही जीत पाए थे।

बृजमोहन अग्रवाल और अजय चंद्राकर को छोड़कर सभी मंत्री चुनाव हार गए। बस्तर से पूर्व मंत्री केदार कश्यप और महेश गागड़ा को हार का सामना करना पड़ा। बस्तर में पार्टी का परफार्मेंस काफी कमजोर था और लोकसभा चुनाव में भी हार का सामना करना पड़ा। ऐसे में बस्तर से कुछ वरिष्ठ नेताओं को प्रदेश कार्यकारिणी में शामिल किया जाएगा।

प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में संगठन विस्तार के साथ सदस्यता अभियान पर मंथन किया जाएगा। प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में विजेता सांसदों का सम्मान भी किया जाएगा। प्रदेश में 11 में से नौ लोकसभा सीट पर भाजपा उम्मीदवारों को जीत मिली थी। विधानसभा चुनाव में हार के बाद लोकसभा चुनाव में मिली जीत ने पार्टी को संजीवनी देने का काम किया है।

प्रदेश प्रभारी डॉ जैन बैठक में होंगे शामिल

छत्तीसगढ़ भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक 16 जून को सुबह 11 बजे भाजपा कार्यालय एकात्म परिसर में आहूत की गई है। बैठक में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी, राष्ट्रीय महामंत्री व प्रदेश प्रभारी डॉ. अनिल जैन, राष्ट्रीय महामंत्री सरोज पाण्डेय, राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री सौदान सिंह, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. रमन सिंह, भाजपा अनुसूचित जनजाति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामविचार नेताम, प्रदेश संगठन महामंत्री पवन साय के साथ-साथ प्रदेश कार्यसमिति के सभी पदाधिकारी व सदस्य शामिल होंगे। डॉ. अनिल जैन 16 जून को सुबह 10 बजे नियमित विमान से रायपुर पहुंचेंगे।