रायपुर। छत्तीसगढ़ के दो बड़े कारोबारी समूहों पर आयकर विभाग में छापे में अब तक डेढ़ सौ करोड़ रुपये की नकदी बरामद किए जाने का दावा किया जा रहा है।

जांच के दौरान बड़े पैमाने पर सोना, चांदी, हीरा समेत अन्य कीमती सामान भी मिले हैं। उनकी मात्रा और कीमत का आंकलन अभी नहीं किया गया है। आयकर विभाग को छह लॉकर की भी जानकारी मिली है। इस बीच विशाखापट्टन में एक नए ठिकाने का पता चलने के बाद वहां भी आयकर की एक टीम ने दबिश दी है।

इससे कार्रवाई का दायरा चार से बढ़कर पांच राज्यों के 56 ठिकानों तक पहुंच गया है। इस बीच झारखंड के धनबवाद, नागपुर के दो और कोलकाता के चार समेत कुछ और स्थानों पर जांच पूरी हो गई है। जांच के दौरान कई फर्जी कंपनियों की भी जानकारी आयकर विभाग को मिली है। रायपुर में गुस्र्वार को भी जांच जारी रहेगी।

कागजी कंपनियों के जरिये बनाई बेनामी संपत्ति

आयकर अफसर बड़े पैमाने पर बेनामी संपत्ति के भी दस्तावेज मिलने का दावा कर रहे हैं। आयकर सूत्रों के अनुसार दोनों समूहों ने कई फर्जी कंपनियां खोल रखी हैं। केवल कागजों पर चल रही इन कंपनियों के जरिये ही बेनामी संपत्ति खड़ी की गई हैं।

कोलकाता में मिलीं कागजी कंपनियां

कोलकाता में कार्रवाई के दौरान ऐसी आठ कंपनियों का आयकर विभाग को पता चला है, जो सिर्फ कागजों में हैं। वहां कुल 12 ठिकानों पर छापा प्लान किया गया था, लेकिन चार स्थानों पर कार्रवाई हो सकी, क्योंकि बाकी आठ फर्जी निकले। इस बीच बुधवार को कुछ स्थानों पर जांच पूरी कर ली गई है।