श्रवण शर्मा, रायपुर (नईदुनिया)। International Old Age Day 2022: कहते हैं-जिस परिवार में बुजुर्गों का मान-सम्मान होता है, वहां ईश्वर निवास करते हैं। वर्तमान दौर में बेटों, पोतों की बेरुखी से अनेक बुजुर्ग अपने आपको असहाय महसूस करते हैं। कोई भी बुजुर्ग दुखी न रहे, उनके चेहरों पर खुशी दमकती रहे, इस उद्देश्य को लेकर पंजाबी समाज ने सरकार द्वारा बनाई गई बापू की कुटिया का कायाकल्प करके बुजुर्गों के लिए मनोरंजन की व्यवस्था की है।

बापू की कुटिया में सुबह-शाम आकर बुजुर्ग गीत गाते हैं, एक-दूसरे के दुख-दर्द को साझा करते हुए उनके चेहरों पर मुस्कान छा जाती है। छत्तीसगढ़ पंजाबी सनातन सभा के अध्यक्ष सुनील डोगर, महासचिव सतिंदर कोहली एवं प्रवक्ता जवाहर खन्नाा बताते हैं कि जब यह महसूस किया गया कि बुजुर्गों का जीवन बोझिल सा होने लगा है, तब सामाजिक सदस्यों ने ठान लिया कि बुजुर्गों के जीवन में उत्साह लाने का हरसंभव प्रयास किया जाएगा।

इस सोच के साथ सरकार की बापू की कुटिया योजना में से एक गांधी उद्यान को चुना गया, जहां बुजुर्ग सुबह-शाम टहलने आते हैं। उन बुजुर्र्गों के मनोरंजन के लिए केराओके म्यूजिक सिस्टम की व्यवस्था की गई। गीत गाकर बुजुर्ग अपने पुराने दिनों की याद में खो जाते हैं। साथ ही कैरम, शतरंज, लूडो खेलते हुए अपने जीवन के अनुभव को एक-दूसरे से साझा करते हुए नई खुशी ढूंढने दुख को भूलने की कोशिश करते हैं। साथ ही योग, पेटिंग, संगोष्ठी का आयोजन भी किया जाता है।

सरकार ने बनाई थी 50 कुटिया की योजना

पूर्ववर्ती भाजपा शासनकाल में वर्ष 2018 में रायपुर तत्कालीन कलेक्टर ओपी चौधरी ने बापू की कुटिया योजना लागू की थी। कुल 50 कुटिया बनाने की योजना थी, जिनमेें से 20 कुटिया ही बन पार्ईं। सामाजिक संगठनों को इसकी जिम्मेदारी दी जानी थी। पंजाबी समाज ने भविष्य में अन्य कुटिया को संवारने का निर्णय लिया है।

इन जगहों पर आते हैं बुजुर्ग

कलेक्ट्रेट गार्डन, अनुपम गार्डन, डीडी नगर, मोतीबाग, गांधी उद्यान, पंकज गार्डन, नगर निगम गार्डन समेत अनेक इलाकों में बुजुर्गों के लिए व्यवस्था की जा रही है। प्रतिदिन बुजुर्ग योग के विविध आसन करके स्वस्थ हो रहे हैं।

आनंद आश्रम में मिला आसरा

सिंधी समाज के युवाओं की संस्था बढ़ते कदम के नेतृत्व में अवंति विहार में बुजुर्गों के लिए आधुनिक सुविधाओं से युक्त आनंद आश्रम का निर्माण किया गया है। आश्रम प्रभारी सुनील नारवानी एवं प्रवक्ता राजू झामनानी बताते हैं कि तीन मंजिला आनंद आश्रम में 40 बुजुर्ग निवास करते हैं। इनके लिए टीवी, सोफा, कैरम के अलावा गीत-संगीत की व्यवस्था की गई है।

हर रविवार को जीना इसी का नाम है कार्यक्रम किया जाता है। शहर के अनेक बुजुर्ग इस आश्रम में आकर यहां रहने वाले बुजुर्गों के साथ मनोरंजन करते हैं। इसके अलावा लायंस क्लब का वृद्धाश्रम श्याम नगर में, समाजसेवी राजेश अग्रवाल के नेतृत्व में टिकरापारा में चितवन वृद्धाश्रम, माना में स्व. कुलदीप निगम की स्मृति में चल रहे वृद्धाश्रम में भी अनेक बुजुर्गों को आश्रय दिया जा रहा है।

Posted By: Pramod Sahu

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close