रायपुर। शिष्यवृत्ति बढ़ाने की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन धरने के बीच जूनियर डाक्टरों ने स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने सिंहदेव को बताया कि छत्तीसगढ़ में जूनियर डाक्टरों की शिष्यवृत्ति अन्य राज्यों की तुलना में काफी कम है। इसे बढ़ाने की मांग वर्षों से की जा रही है, लेकिन शासन ने अब तक किसी तरह की कार्रवाई नहीं की है।

हड़ताल के बीच इलाज हो रहा प्रभावित, नहीं हो पा रही मरीजों की सर्जरी

चर्चा के दौरान स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने जूनियर डाक्टरों की मांगों को जायज ठहराया। उन्होंने शिष्यवृत्ति बढ़ाने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को पत्र लिखा है। वहीं स्वास्थ्य सचिव को पत्र लिखकर इस पर नियमों के तहत कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। इस दौरान चिकित्सा शिक्षा संचालक डा. विष्णु दत्त, रायपुर मेडिकल कालेज की डीन डा. तृप्ति नागरिया मौजूद थीं।

बता दें कि पं. जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कालेज के 650 समेत राज्यभर के सभी शासकीय मेडिकल कालेजों के 3,000 जूनियर डाक्टर 19 जनवरी से लगातार अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं। उनके हड़ताल पर जाने की वजह से अस्पतालों में मरीजों का इलाज प्रभावित हो रहा है। व्यवस्था बनाने के लिए मेडिकल कालेज प्रबंधन ने सीनियर डाक्टरों की ड्यूटी लगा दी है, लेकिन मानव संसाधन की समस्या की वजह से पर्याप्त व्यवस्था नहीं हो पाई है। ओपीडी मे जहां इलाज प्रभावित हो रहे हैं। सर्जरी भी कम हो गई है। अस्पतालों में सर्जरी के लिए तिथि बढ़ाई जा रही है।

जूनियर डाक्टर एसोसिएशन के अध्यक्ष डा. प्रेम चौधरी ने कहा, स्वास्थ्य मंत्री ने मांग को जायज ठहराया है। उन्होंने कहा है कि जल्द इस पर कार्रवाई करेंगे। लेकिन हमें ठोस आश्वासन चाहिए। जब तक मांग पूरी नहीं हो जाती, धरना जारी रखेंगे।

वर्तमान में जूनियर डाक्टरों को मिल रही शिष्यवृत्ति

चिकित्सक - वर्तमान - मांग

इंटर्न - 12,000 - 23,872

स्नातकोत्तर प्रथम वर्ष - 53,000 - 95,488

स्नातकोत्तर द्वितीय वर्ष - 56,000 - 98382

स्नातकोत्तर तृतीय वर्ष - 59,000 - 1,01,274

बांड वाले चिकित्सक - 55,000 - 1,14,552

मांगें पूरी हुई तो इतनी बढ़ेगी जूनियर डाक्टरों की शिष्यवृत्ति

चिकित्सक - बढ़ोतरी की राशि

इंटर्न - 11,872

स्नातकोत्तर प्रथम वर्ष - 42,488

स्नातकोत्तर द्वितीय वर्ष - 42,382

स्नातकोत्तर तृतीय वर्ष - 42,274

बांड वाले चिकित्सक - 59,552

Posted By: Ashish Kumar Gupta

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close