Lockdown In Chhattisgarh : रायपुर। छत्तीसगढ़ के विभिन्न शहरों और ग्रामीण इलाकों में कोरोना वायरस संक्रमण के चलते 6 अगस्त तक लॉकडाउन घोषित किया गया है। इससे पहले सरकार ने एक सप्ताह के लॉकडाउन को आगे बढ़ाते हुए इसे आज के दिन तक के लिए लागू किया था। राज्य में बढ़ते कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए छत्तीसगढ़ सरकार को यह फैसला लेना पड़ा था। लॉकडाउन के लिए केंद्र के दिशानिर्देश के अनुसार अब छत्तीसगढ़ सरकार ने कलेक्टरों को जिला स्तर पर लॉकडाउन का निर्णय लेने का अधिकार दिया है। आज 2 बजे राजधानी रायपुर में कलेक्टर ने बैठक बुलाई है, जिसमें लॉकडाउन को लेकर आगे का निर्णय लिया जाएगा।

बता दें कि छत्तीसगढ़ में संक्रमण का अभी भी तेजी के साथ प्रसार हो रहा है और यहां अब 10497 लोग कोरोना वायरस की चपेट में आ चुके हैं। रोजाना बड़ी संख्या में नए मरीज सामने आ रहे हैं। प्रशासन को इस हालात को देखते हुए लॉकडाउन पर गंभीरता से फैसला लेना है। वहीं दूसरी तरफ लॉकडाउन की वजह से व्यापार का नुकसान भी हो रहा है। छोटे व्यापारी और दुकानदार अब हालात से परेशान हो उठे हैं। पूरे राज्य में व्यापारी प्रशासन से नियमित रूप से व्यापार व्यवसाय चालू करने की अनुमति मांग रहे हैं।

व्यापारिक संगठन कॉन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स एसोसिएशन (कैट) का कहना है कि सात अगस्त से सभी दुकानें खुलनी चाहिए। लॉकडाउन ने व्यापार उद्योग जगत को पूरी तरह से नुकसान पहुंचा दिया है। इस संबंध में कैट ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को ज्ञापन भी सौंपा। मंगलवार को कैट से जुड़े विभिन्न व्यावसायिक संगठनों की बैठक हुई थी और सभी व्यापारियों ने एकमत होकर लॉकडाउन का विरोध किया।

कैट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर पारवानी ने कहा कि सीएम को सौंपे ज्ञापन में कहा गया है कि लॉकडाउन से व्यापार जगत को नुकसान पहुंचा है। आने वाले दिनों में कोरोना को रोकने जो भी नियम बनाए जाएंगे व्यापारी वर्ग उनका पालन करेंगे। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में सुबह सात बजे से शाम सात बजे तक व्यापार की अनुमति दी जाए। साथ ही शनिवार शाम चार बजे के बाद सोमवार सुबह तक पूरी तरह से लॉकडाउन लगाया जाए। इससे कोरोना संक्रमण को रोकने में भी मदद मिलेगी और व्यापारिक गतिविधियां भी चलती रहेंगी। थोक पंडरी कपड़ा व्यापारी संघ के अध्यक्ष चंदर विधानी का कहना है कि अब लॉकडाउन नहीं लगना चाहिए। कपड़ा व्यापारी भी पूरी तरह से नियमों का पालन करते हुए दुकानें खोलेंगे। उन्हें सुबह नौ बजे से शाम सात बजे तक का समय दिया जाए।

बिलासपुर में व्यापारियों के संगठन संभागीय चेंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष रामअवतार अग्रवाल ने कहा कि व्यापारिक हित को देखते हुए प्रशासन को सीमित समय के लिए सभी तरह के व्यवसाय की छूट देनी चाहिए। कोरबा में भी आज कलेक्टर लॉकडाउन बढाने का फैसला लेंगे। यहां अभी सुबह 6 से 10 बजे तक व्यापार व्यवसाय की अनुमति है, जबकि व्यापारियों का कहना है कि दोपहर 3 बजे तक व्यवसाय की अनुमति मिलनी चाहिए।

अंबिकापुर में भी लॉकडाउन को आज रात 12 बजे से शिथिल कर दिया जाएगा। शहर के कंटेनमेंट जोन बंद रहेंगे। आज शाम चार बजे शहर में एसडीएम और निगम आयुक्त ने व्यापारियों और आम नागरिकों की एक बैठक बुलाई है, जिसमें नियमों को सिथील किए जाने की शर्तों पर चर्चा होगी। थोक किराना व्यवसायी रूपेश बंसल ने कहा कि व्यवसाय बंद होने की वजह से व्यापारियों की स्थिति खराब हुई है। दुकानें खुलने से व्यापारियों की आर्थिक स्थिति वापस पटरी पर आएगी, लेकिन संक्रमण के हालात को भी ध्यान में रखना जरूरी है।

Posted By: Himanshu Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020