रायपुर। छत्तीसगढ़ में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने छत्तीसगढ़ में पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का हाथ झटक दिया है। मंगलवार को बसपा ने राज्य की 11 में से छह सीटों के लिए पार्टी प्रत्याशियों के नामों का एलान कर दिया। पार्टी ने तीन नामों की पहली सूची सुबह और दूसरी सूची शाम को जारी की।

इससे जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जकांछ) के प्रमुख अजीत जोगी आहत हैं। उन्होंने कहा कि नाम जारी करने से पहले हमसे पूछना तो दूर चर्चा भी नहीं की गई। बसपा के इस कदम से छत्तीसगढ़ में दोनों दलों का गठनबंधन खतरे में पड़ता नजर आ है। हालांकि बसपा प्रदेश अध्यक्ष हेमंत पोयाम ने कहा कि हमने केवल उन सीटों पर नाम तय किए हैं, जिन पर जकांछ को कोई आपत्ति नहीं थी। आगे जो कुछ होना है वह होली के बाद दोनों पार्टी प्रमुखों की बैठक में तय होगी।

मैं मायावती से बात करुंगा : जोगी

जोगी ने कहा कि बसपा के साथ हमारा गठबंधन है, इसलिए एक बार नाम घोषित करने से पहले बात तो कर लेनी थी। नाम घोषित करने से पहले न तो मुझसे और न ही प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने पूछा गया है, वैसे भी लोकसभा चुनाव में हमारी कोई दिलचस्पी नही है, लेकिन हमारे और मायावती जी के रिश्ते बने रहेंगे। हम उन्हें शुभकामनाएं देंगे, वे प्रधानमंत्री पद की दावेदार भी हैं और लोग चाहते भी हैं कि वो प्रधानमंत्री बने। मैं मायावती जी से भी बात कस्र्गा और फिर जैसी बात होगी वैसा किया जाएगा।

बना रहेगा गठबंधन

जकांछ के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने कहा है कि बसपा से हमारा गठबंधन अटूट है। बसपा ने छह प्रत्याशियों के नामों की घोषणा कर दी है, इसके बाद भी हमारा गठबंधन बरकरार रहेगा। हम विधानसभा की तरह लोकसभा ही नहीं नगरीय निकाय का चुनाव भी साथ मिलकर लड़ेंगे।

छोड़ी पांच सीटों में उम्मीद की किरण

बसपा ने राज्य के मैदानी क्षेत्रों की पांच सीटें फिलहाल छोड़ दी है। इसमें जोगी की पसंद वाली कोरबा सीट के साथ बिलासपुर, रायपुर, महासमुंद और राजनांदगांव शामिल है। इस वजह से माना जा रहा है कि गठबंधन के लिए उम्मीद की किरण अब भी बची हुई है। पार्टी सूत्रों के अनुसार जकांछ की दिलस्पी इन्हीं सीटों में है।

इन छह सीटों के लिए जारी किए नाम

सरगुजा माया भगत

रायगढ़ इन्नोसेंट कुजूर

दुर्ग गीतांजलि सिंह

जांजगीर-चांपा दाउराम रत्नाकर

बस्तर आयतु राम मंडावी

कांकेर सूबे सिंह धु्रवे

Posted By: