रायपुर । निप्र

इस साल 2017 में दो चंद्र ग्रहण और दो सूर्य ग्रहण का संयोग बन रहा है। दोनों चंद्र ग्रहण भारत में दिखाई देगा, लेकिन सूर्य ग्रहण दिखाई नहीं देगा। चंद्र ग्रहण के प्रभाव से देश में उपद्रव, भूकंप का प्रकोप और जनधन हानि की संभावना है।

ग्रहण रात में और सुबह पुण्य की डुबकी

ज्योतिषी डॉ.दत्तात्रेय होस्केरे के अनुसार साल का पहला चंद्र ग्रहण अगले माह 10-11 फरवरी की दरमियानी रात पड़ेगा। कर्क राशियुक्त यह ग्रहण भारत में दिखाई देगा, इसलिए ग्रहण के 12 घंटे पहले मंदिरों के पट बंद कर दिए जाएंगे। इस दिन हिन्दी पंचांग के अनुसार माघ पूर्णिमा पड़ रही है और पूर्णिमा पर नदी में स्नान करने की मान्यता है। चूंकि ग्रहण रात्रि में पड़ेगा इसलिए नदी में पुण्य स्नान की परंपरा सुबह निभाई जा सकेगी। छत्तीसगढ़ में इस दिन राजिम त्रिवेणी पर लाखों श्रद्धालु पुण्य की डुबकी लगाएंगे।

महाशिवरात्रि के दूसरे दिन सूर्य ग्रहण

चंद्र ग्रहण के ठीक 15 दिनों बाद यानी महाशिवरात्रि के दूसरे दिन 26 फरवरी को कुंभ राशि में सूर्य ग्रहण पड़ रहा है। हालांकि सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा, इसलिए पूजा पाठ अथवा अन्य धार्मिक कार्यों में कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।

रक्षा बंधन के दिन दूसरा चंद्र ग्रहण

भाई-बहनों के पवित्र त्योहार रक्षा बंधन की रात्रि में दूसरा चंद्रग्र हण पड़ेगा। 7 अगस्त को मकर राशि युक्त चंद्र ग्रहण होने से रक्षा बंधन के मुहूर्त प्रभावित होंगे और ग्रहण के पूर्व लगने वाले सूतक के पहले राखी बंधवानी पड़ेगी। यह ग्रहण भी देर रात भारत में दिखाई देगा, इसलिए इसका प्रभाव पड़ेगा।

खग्रास सूर्य ग्रहण भी नहीं दिखेगा

रक्षा बंधन के 15 दिनों बाद 21 अगस्त को सिंह राशि युक्त खग्रास सूर्य ग्रहण पड़ रहा है। चूंकि यह ग्रहण भी भारत में दिखाई नहीं देगा, इसलिए पूजा पाठ या अन्य धार्मिक कार्यों में कोई विघ्न नहीं पड़ेगा।

17 जनवरी, श्रवण शर्मा, 06- संतोष

समय - 10.40 बजे

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020