रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। राजधानी को स्मार्ट सुविधाएं सुलभ कराने के लिए ड्रेनेज और पाइप लाइन मैप पर काम करने की जरूरत है। साथ ही औद्योगिक संस्थाएं और स्थानीय उपक्रमों के अलावा विभिन्न गतिविधियों में शामिल संगठनों की सहायता लिए जाने की आवश्यकता है। ताकि स्मार्ट सिटी बनाने की लिए ठोस जमीन तैयार की जा सके। सिटी टेक्निकल कमेटी बनाकर विकास योजनाओं की नींव रखी जाए।

बुधवार को सांसद सुनील सोनी ने रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड कार्यालय के सभागार में अधिकारियों की बैठक में उक्त सुझाव और दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि विभिन्न शहरों में कई चिकित्सा और औद्योगिक समूह नगर विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। यहां भी सभी संस्थाओं को जोड़कर कार्य योजनाओं के क्रियान्वयन में इनकी भागीदारी ली जाये।

--केंद्र से प्रोजेक्ट के लिए फंड दिलाने का वादा

सांसद सुनील सोनी बोले- नवाचार और शहरी जरूररतों के मुताबिक स्मार्ट प्रोजेक्ट तैयार किए जाएं। केंद्र सरकार से इन परियोजनाओं के लिए धन राशि उपलब्ध कराने में भारत सरकार के पर्यावरण और नगरीय विकास कमेटी के सदस्य के तौर पर भी वे सहयोग करेंगे।

--ये विषय विशेषज्ञों ने दिए स्मार्ट सिटी के लिए सुझाव

शहर के विकास में विशेषज्ञों की भागीदारी प्राप्त करने के लिए सांसद ने शहर के प्रख्यात वास्तुविदों, चिकित्सकों, चार्टर्ड अकाउंटेंट, तकनीकी अनुभव रखने वाले नागरिकों का सिटी टेक्निकल ग्रुप बनाने का सुझाव भी दिया।

-बैठक में ये रहे उपस्थित -----

रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड के एमडी सौरभ कुमार, महाप्रबंधक (तकनीकी) एसके सुंदरानी सहित रायपुर स्मार्ट सिटी के सभी तकनीकी अधिकारी और उनकी टीम बैठक में शामिल थी।

--इन बिंदुओं पर दिए दिशा-निर्देश

10 दिन में तालाबों का गहरीकरण, सफाई की जाए, ताकि गर्मी में वे उपयोगी बन सकें।

पानी टंकियों की सफाई करें, जलसंकट वाले इलाकों को चिन्हित करें।

आगामी जरूरतों को ध्यान में रखकर जलापूर्ति का सिस्टम बनाएं।

अब अपशिष्ट समस्या नहीं, बल्कि उसे आमदनी का स्रोत बनाएं।

रिक्त भूखंड, परिसरों, स्थलों को जन सहभागिता से विकसित करें।

लाखे नगर में खाली जमीन को खेल मैदान के रूप में विकसित करें।

शहर के मध्य के मुख्य सड़क पर पेयजल, जल निकास, केबल को भूमिगत करें

सरकारी स्कूलों को स्मार्ट बनाने पर दें जोर

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket