रायपुर। बस्तर में मतदान के ठीक दो दिन पहले जंगल में बैठे माओवादियों ने चुनाव का बहिष्कार करने का संदेश भेजा है। इसमें चुनाव के नाम पर बस्तर में बड़ी संख्या में अतिरिक्त फोर्स तैनात करने के साथ ही आम लोगों को परेशान करने का आरोप लगाया गया है।

यह संदेश माओवादियों की दण्डकारण्य स्पेशल जोनल कमेटी के सचिव रामन्ना ने एक मोबाइल संदेश के जरिए भेजा है। रामन्ना ने कहा है कि चुनाव के नाम पर बस्तर में सुरक्षा बलों की 650 अतिरिक्त कंपनियां तैनात कर दी गई हैं। फोर्स दिन-रात सड़कों पर गश्त कर रही है। जगह- जगह चेकपोस्ट बनाए गए हैं। सर्चिंग के नाम पर गांवों पर हमले किए जा रहे हैं, लोगों को जबरन गिरफ्तार किया जा रहा है। ऐसा करके लोगों में दहशत पैदा की जा रही है। 15 अक्टूबर के पहले से सभी स्कूल और आमों को खाली कराकर, बच्चों को जबरन घर भेज दिया गया है। यह सब लोकतंत्र के लिए स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने के नाम पर किया जा रहा है। रामन्ना ने कहा है कि दरअसल हमारे देश में लोकतंत्र है ही नहीं। वास्तव में यह चुनाव अगले पांच सालों तक जनता का शोषण और दमन करने के अधिकार के लिए कांग्रेस और भाजपा के बीच हो रहा है। रामन्ना ने कहा है कि इसलिए हमारी पार्टी छत्तीसगढ़ के मजदूरों, किसानों, छोटे व देशी पूंजीपतियों का आह्वान करती है कि वे इस झूठे चुनाव का बहिष्कार करें।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket