रायपुर/सुकमा (सतीश चांडक)।Chhattisgarh News: नक्सलियों से लोहा लेने वाले जवानों की शहादत के निशां छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में हर तरफ नजर आते हैं। राष्ट्रीय राजमार्ग-30 पर स्थित एर्राबोर में तो जवानों की कहानी लोगों को बुत बनने को मजबूर कर देती है।

नौ जुलाई 2007 को जिले के उरपलमेटा के पास नक्सली हमले में 23 जवान शहीद हुए थे। इनमें से छह जवान एर्राबोर व आसपास गांवों के थे। इन जवानों की यादों को चिरस्थायी बनाने के लिए स्वजनों और ग्रामीणों ने नेशनल हाईवे के पास इनकी प्रतिमाएं स्थापित की हैं।

हर साल राष्ट्रीय पर्व 26 जनवरी व 15 अगस्त को यहां जिस तरह से मेले-सा नजारा रहता है, उससे यह लगता ही नहीं कि ये अब इनके बीच नहीं हैं। मांयें बेटों को तिलक कर उन पर ममता उड़ेलती हैं, वहीं बहनें भी भाई पर स्नेह बरसाती हैं। यहां उनके लिए कोई आंसू नहीं बहाता, ताकि शहादत शर्मिंदा न हो।

जिला मुख्यालय से करीब 50 किमी दूर है एर्राबोर। नौ जुलाई 2007 को एर्राबोर थाना क्षेत्र के गगनपल्ली इलाके के उरपलमेटा में नक्सली हमले में छह एसपीओ और सीआरपीएफ के 12 जवान शहीद हुए थे। इनमें से छह एसपीओ की प्रतिमाएं एर्राबोर बाजार के पास 2010 में बनाई गई थीं।

इनमें सहायक आरक्षकों में सलवम तमैया, सोयम वेंकटेश, करट्म सुब्बा, सलवम रमेश, सोयम मनोज व सोयम मुकेश के साथ ही 2010 में भेज्जी विस्फोट में शहीद सोयम लच्छा की प्रतिमा शामिल है। नक्सली इन प्रतिमाओं को भी तोड़ने का प्रयास कर चुके हैं लेकिन पुलिस थाना व कैंप होने के कारण ये सुरक्षति हैं।

आज नजारा रहेगा हटकर

मंगलवार को यहां का नजारा हटकर रहेगा। यहां जवानों के स्वजन, उनके गांव के लोगों के अलावा अंचल के लोग तो जुटेंगे ही, पुलिस के आला अधिकारी भी इस मौके पर मौजूद रहेंगे। इस दौरान यहां केवल इन जवानों के शौर्य और साहस की चर्चा होगी। ये प्रतिमाएं यहां के युवाओं को नक्सलवाद से लड़ने की प्रेरणा देती हैं।

नक्सलियों को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए उनका खून उबलने लगता है और भुजाएं फड़कने लगती हैं। इन युवाओं के बलिदान पर पूरा गांव फख्र महसूस करता है। अब तक यहां के 30 से अधिक एसपीओ (स्पेशल पुलिस आफिसर) व आरक्षक नक्सलियों से लड़ते हुए शहीद हो चुके हैं। इन प्रतिमाओं के बनने से जवानों के स्वजनों को भी लगता है कि वे आज भी उनके बीच हैं।

रक्षाबंधन पर बहनें आती हैं राखी बांधने

नक्सलियों के खिलाफ लड़ते हुए जिन भाइयों ने शहादत दी थी, उनकी बहनें सोयम शंकुरी, सलवम लक्ष्मी, सोयम कवि आदि हर साल राखी पर उनकी प्रतिमाओं पर रक्षासूत्र बांधने को आती हैं। वे कहती हैं कि शहादत के बाद एक साल भी ऐसा नहीं गया है, जब वे रक्षाबंधन पर राखी बांधने न आई हों। उन्हें भाइयों की शहादत पर फख्र महसूस होता है। उनके भाई सभी के दिलों में आज भी जिंदा हैं और हमेशा जिंदा रहेंगे।

Posted By: Ravindra Thengdi

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags