रायपुर। Mid Day Meal Scheme : कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने हर संभव प्रभावी कदम उठाए जा रहे हैं। कोरोना प्रभाव के कारण स्कूल भले ही संचालित नहीं हो पा रहे हैं पर बच्चों को मध्याह्न भोजन अनवरत मिलता रहेगा। पहली बार ग्रीष्मकालीन अवकाश में भी बच्चों को सूखा राशन दिया जाएगा। 45 दिन का राशन बच्चों के घर तक भेजा जाएगा। राज्य सरकार ने आगामी आदेश तक स्कूलों को बंद रखने के लिए आदेश दिया है। ऐसी स्थिति में बच्चों को गरम और पका हुआ भोजन नहीं दिया जा सकता है।

सरकार ने राशि के बदले सूखा राशन में दाल, चावल, बड़ी और अचार देने का फैसला लिया है। यह बच्चों के घर तक पहुंचाया जाएगा या फिर स्कूल में फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए राशन बांटा जाएगा। बच्चों को 45 दिन का राशन एक साथ दिया जाएगा। इससे प्रदेश के 28 लाख बच्चों को फायदा मिलेगा।

पैकिंग करने पहले देनी पड़ेगी फोटो

स्कूल शिक्षा विभाग के संचालक जितेंद्र शुक्ला ने बताया कि सूखा राशन निर्धारित मात्रा से कम न हो और इसकी गुणवत्ता बेहतर रहे इसके लिए सील बंद पैकेट दिया जाएगा। पैकिंग के पहले और पैकिंग के बाद फोटोग्राफ लिया जाएगा। इसके बाद ही संबंधित बच्चों के पालकों को दिया जाएगा।

प्राइमरी स्कूल के बच्चों को इतना मिलेगा

सामाग्री - प्रति छात्र ग्राम में

चावल- 4500

दाल-20

अचार- 6.60

सोया बड़ी -10

तेल- 05

नमक- 5.55

मिडिल स्कूल के बच्चों को इतना मिलेगा

सामाग्री - प्रति छात्र ग्राम में

चावल- 6750

दाल- 1350

अचार- 450

सोया बड़ी- 675

तेल- 350

नमक- 375

रसोइयों का मानदेय नहीं मिलेगा

ग्रीष्मकालीन अवकाश के दौरान रसोइयों को मानदेय नहीं दिया जाएगा। जिन बच्चों को राशन मिल जाएगा उनकी जानकारी मिड डे मील की वेबसाइट पर अपडेट करना अनिवार्य होगा। इस तरह ग्रीष्मवकाश में भी सूखा राशन मिलने से निम्न आय वर्ग के उन बच्चों को भोजन मिल सकेगा, जिनके माता-पिता रोजी मजदूरी करके अपने बच्चों का पेट भरते हैं।

Posted By: Anandram Sahu

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना