रायपुर(निप्र)। छत्तीसगढ़ में मूसलाधार बारिश का असर अभी समाप्त नहीं हुआ है और खाड़ी में फिर सिस्टम बनने लगा है। यदि यह सिस्टम अधिक तीव्र हुआ तो फिर भारी बारिश से प्रदेश तरबतर हो सकता है। मौसम विभाग ने आगामी 24 घंटों के बाद भारी बारिश की चेतावनी दी है।

डिपरेशन के असर से हुई बारिश से छत्तीसगढ़ की सूखी धरती तरबतर हो गई है। अभी नदी-नालों का पानी पूरी तरह से उतरा नहीं है। जानकारों का कहना है कि इस बार भारी बारिश से तबाही हो सकती है। क्योंकि अभी तक धरती सूखी नहीं है। नदी-बांध सब खाली थे, इसलिए मूसलाधार बारिश से ज्यादा नुकसान नहीं हुआ। लेकिन अब भारी बारिश होने से खेती पर बुरा असर हो सकता है।

शुक्रवार को सुबह से आसमान पर काली घटाएं छाई रहीं। लग रहा था कि फिर बारिश होगी, लेकिन बादलों ने राहत दी। मौसम विभाग के अनुसार प्रदेश में कहीं-कहीं हल्की से मध्यम बारिश हुई है। बस्तर में कम बारिश हुई, जिसके कारण वहां का तापमान 30 डिग्री सेल्सियस से अधिक है। जबकि रायपुर का तापमान 28 डिग्री के भीतर है।

मौसम वैज्ञानिक पीएल देवांगन के अनुसार उत्तरी बंगाल की खाड़ी की ऊपरी हवा में चक्रवात बना है। यदि यह तीव्र हुआ तो प्रदेश में फिर अच्छी बारिश हो सकती है। प्रदेश में आगामी चौबीस घंटे के बाद भारी बारिश की चेतावनी है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close