रायपुर (राज्य ब्यूरो)। लोक निर्माण विभाग के कार्यों में इंजीनियरों की अनिवार्यता होने से बेरोजगार इंजीनियरों को जहां रोजगार मिल रहा है, वही तकनीकी कार्यों में भी सहूलियतें होने लगी है। प्रदेश में लगभग 1575 बेरोजगार इंजीनियरों की नियुक्ति की गई है। इसमें 55 प्रोजेक्ट मैनेजर, 1177 डिग्री इंजीनियर व 343 डिप्लोमा इंजीनियर शामिल है।

पीडब्ल्यूडी और ठेकेदारों के अधीन इंजीनियरों के समन्वय और तालमेल से प्रोजेक्ट मैनेजर, डिग्री और डिप्लोमा इंजीनियर निर्माण कार्यों पर निगरानी रखकर गुणवत्ता सुनिश्चित कर रहे हैं। बता दें कि पांच करोड़ रुपये से अधिक के पीक्यू (परफारमेंस क्वालीफिकेशन) दस्तावेज के अनुसार इंजीनियरों की नियुक्ति की जानी है। एक करोड़ रुपये से अधिक के कार्यों में एक ग्रेज्युएट इंजीनियर और 20 लाख से 100 लाख रुपये तक के कार्यों में एक डिप्लोमा इंजीनियर की नियुक्ति की जानी है। यदि संबंधित ठेकेदार प्रावधानित टेक्निकल स्टाफ नियोजित करने में असफल हुआ तो 15 हजार प्रतिमाह की वेतन दर से डिप्लोमा इंजीनियर, 25 हजार रुपये प्रतिमाह वेतन दर से डिग्री इंजीनियर और 50 हजार प्रतिमाह वेतन की दर से प्रोजेक्ट मैनेजर की नियुक्ति इंजीनियर इन चार्ज के माध्यम से करने का नियम में प्रविधान है।

चिकित्सा शिक्षा विभाग में 238 पदों पद भर्ती के लिए आवेदन 16 से

चिकित्सा शिक्षा विभाग में पीएससी ने 238 डिमांस्ट्रेटर के पदों पर भर्ती निकाली हैं। आपको बता दें कि भर्ती के लिए आवेदन पीएससी की साइट में 16 दिसंबर से 14 जनवरी तक भरे जाएंगे। पीएससी के जारी विज्ञापन के अनुसार निर्धारित योग्यता या उच्च योग्यता के आधार पर इंटरव्यू या परीक्षा और इंटरव्यू दोनों के आधार पर ही भर्ती प्रक्रिया सम्पन्न करने की बात कही है। नियम व शर्ते तथा योग्यता पीएससी की साइट में देखी जा सकती हैं। 20 जनवरी से 24 जनवरी रात 12 बजे तक 100 रुपये के शुल्क के साथ त्रुटि सुधार किया जा सकता है।

Posted By: Ravindra Thengdi

NaiDunia Local
NaiDunia Local