रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। World Breastfeeding Week 2021: शासकीय कला एवं वाणिज्य कन्या महाविद्यालय देवेंद्र नगर के गृह विज्ञान विभाग और आइडीए छत्तीसगढ़ चैप्टर द्वारा विश्व स्तनपान सप्ताह के अंतर्गत वेबिनार का आयोजन किया गया। मुख्य वक्ता नागपुर की डॉ. प्राची आसुदानी थी। उन्होंने स्तनपान के महत्व और चुनौतियां विषय पर अपने विचार व्यक्त किए।

डॉ. प्राची ने कहा कि मां का दूध आसानी से उपलब्ध होता है। आसानी से पाचन शील और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाला होता है। बच्चों को वायरस और बैक्टारिया से लड़ने में मदद करता है। इसलिए हर मां को नवजात शिशुओं को स्तनपान जरूर कराना चाहिए। शिशु के जन्म के शुरुआती छह महीने तो उसे सिर् मां का ही दूध पिलाना चाहिए। इसके लिए गर्भवती महिलाओं को पहले से ही स्तनपान कराने के लिए प्रेरित करना चाहिए।

गृह विज्ञान विभागाध्यक्ष डॉ. संध्या वर्मा ने बताया कि स्तनपान से शिशुओं में दस्त, एलर्जी, कान के संक्रमण, श्वसन तंत्र के संक्रमण, बाल मृत्यु दर को कम किया जा सकता है। उन्होंने आगे बताया कि डब्लूएचओ के अनुसार स्तनपान कराने वाली महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर, ओवरियन, कैंसर, टाइप टू मधुमेह और ह्दय रोग के खतरे कम होते हैं।

प्रभारी प्राचार्य उषा अग्रवाल ने कहा कि वर्तमान परिवेश में मोडर्न कल्चर में बदलाव आने से कपल्स को ब्रेस्ट फीडिंग का महत्व जानना एक बड़ी चुनौती है। इसके प्रति जागरुकता लाना अत्यंत आवश्यक है। बता दें 1992 से विश्व के 100 से ज्यादा देशों में मनाया स्तनपान सप्ताह मनाया जाता है। इसका उदेश्य स्तनपान के प्रति जागरुकता और शिशु स्वस्थ को उत्तम बनाना है।

Posted By: Shashank.bajpai

NaiDunia Local
NaiDunia Local