अश्विनी शर्मा, रायपुर। Navratri 2020: नवरात्र में इस बार कोरोनावायरस ने जहां पूजा पंडालों; भक्तों की पूजा अर्चना पर अपना असर दिखाया है वही दूसरी ओर इसने ट्रेनों को भी डोंगरगढ़ स्थित मां बमलेश्वरी के दरबार में हाजिरी लगाने से रोक दिया है। जी हां यह बात सुनने में अजीब जरूर लगेगी, लेकिन यह सच है। इस बार की नवरात्रि में बमलेश्वरी मां अपने भक्तों का रास्ता देखने के साथ ही ट्रेनों के कोलाहल को भी नहीं सुन पा रही हैं। दरअसल में इस बार कोरोना के कारण ट्रेनें ना चलने से ना तो दूरदराज के भक्त मां के दर्शन करने पहुंच पा रहे हैं। ना तो किसी भी राज्य के भक्त।

मुंबई हावड़ा दिल्ली हावड़ा बिहार झारखंड आंध्र प्रदेश गुजरात राजस्थान जैसे स्थानों के लिए हमारे रायपुर रूट से ट्रेनें चलती हैं। मगर नवरात्रि के दौरान जैसे ही ट्रेन डोंगरगढ़ के पास पहुंचती थी तो लोगों को और ट्रेनों में बैठे यात्रियों को मां बमलेश्वरी के गुणगान करते हुए गीत सुनाई देने लगते थे। ऐसे में कोई भी अनजान व्यक्ति जैसे ही इन गीतों को सुनता था वह भी बरबस ही आसपास बैठे रहे यात्रियों से पूछने लगता था कि यहां कोई देवी का स्थान है क्या। जवाब में मां बमलेश्वरी का नाम सुनते ही उनके बारे में नतमस्तक हो जाता था। वही दूसरी ओर नवरात्रि के दौरान लंबी दूरी की सभी ट्रेनें डोंगरगढ़ में रुकती थीं। इससे ऐसा प्रतीत होता था की मानो वह भी मां का आशीर्वाद लेकर आगे की यात्रा पर जाना चाहती हैं। इस साल कोरोनावायरस के कारण सभी ट्रेनें क्वारंटाइन है। वही कोरोना के नियमों के कारण मां बमलेश्वरी का दरबार भक्तों के कोलाहल से वंचित है।

चलती थीं लगभग डेढ़ सौ ट्रेन

आम दिनों में रायपुर से होकर लगभग डेढ़ सौ ट्रेन गुजरती थी। कोरोना के कारण अब इनकी संख्या महज 50 रह गई है। उसमें भी सभी लंबी दूरी की गाड़ियां हैं और इस नवरात्रि पर डोंगरगढ़ स्टेशन में नहीं रुक रही हैं।

अन्य राज्यों के श्रद्धालु भी आते थे डोंगरगढ़

नवरात्रि के दौरान ऐसा नहीं था कि केवल छत्तीसगढ़ के श्रद्धालु डोंगरगढ़ पहुंचते थे। मध्य प्रदेश महाराष्ट्र ओडीशा जैसे राज्य के श्रद्धालु भी मां बमलेश्वरी के दरबार में शीश झुकाने आते थे। इसके अलावा कई श्रद्धालु सैकड़ों किलोमीटर पैदल चलकर भी मां के दर्शन करने का सौभाग्य प्राप्त करते थे।

जस गीत पार्टियों के वाद्य यंत्र भी पड़े ठंडे: इस साल कोरोना के कारण नवरात्रि पर कई मंदिरों और दुर्गा पूजा पंडालों मैं जस गीत और जागरण करने वाले आर्केस्ट्रा ग्रुप कार्यक्रम पेश नहीं कर पा रहे हैं। कोरोना के खिलाफ बनाए गए नियमों के कारण ऐसा हो रहा है। पंचमी के बाद से यह आर्केस्ट्रा ग्रुप राज्य भर में घूम घूम कर अपना कार्यक्रम पेश करते थे लेकिन इस बार बुकिंग ना मिलने के कारण इनके समक्ष आर्थिक तंगी की परेशानी खड़ी हो सकती है।

Posted By: Himanshu Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस