रायपुर। (नईदुनिया प्रतिनिधि)। राजधानी के गुढ़ियारी अंडरब्रिज की मरम्मत कार्य में लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों की लापरवाही सामने आई है। विभाग ने विगत एक माह पहले ही 27 लाख रुपये की लागत से अंडरब्रिज की मरम्मत का काम कराया है। लेकिन, अभी से सीपेज आना शुरू हो गया है। अंडरब्रिज के अंदर से पानी आ रहा है। बारिश में स्थिति बिगड़ने से इनकार नही किया जा सकता है।

हालांकि, सीपेज को बंद करने के लिए विगत दो दिनों से विभाग की टीम जुटी हुई है। सीपेज रोकने के लिए गुरुवार को पाइप के माध्यम से कई स्थानों पर ग्राउस मटेरियल भरने का काम किया गया। इस दौरान करीब तीन से चार घंटे अंडरब्रिज को वनवे किया गया था। अधिकारियों का कहना है कि सीपेज बंद करने के लिए ग्राउस मटेरियल भरा गया है, जिससे पानी आना बंद हो जाएगा।

गौरतलब है कि आमानाका, डूमरतालाब, मोवा पंडरी, कोटा-गोंदवारा क्रासिंग पर अंडरब्रिज का निर्माण कार्य किया गया है। इसमें ज्यादातर अंडरब्रिज बारिश के मौसम में भर जाते हैं। पानी भरने से वाहन चालकों को यहां से निकलने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। पैदल यात्री तो इन ब्रिज से निकल ही नहीं पाते हैं। यदि कोई वाहन बीच में ही बंद हो जाए तो फिर मुश्किल और बढ़ जाती है।

ठेकेदार के भरोसे छोड़ा था काम

गुढ़ियारी अंडरब्रिज से राजधानी के आधा दर्जन वार्ड के करीब दो लाख की आबादी आना-जाना करती है। गुढ़ियारी अंडरब्रिज काफी जर्जर हो गया था। विभाग ने 20 नवंबर 2021 से अंडरब्रिज की मरम्मत का कार्य शुरू कराया, जिसे दो से तीन माह के भीतर पूरा किया गया। मरम्मत के दौरान अंडरब्रिज से आवागमन रोका गया था। बताया जाता है कि अधिकारियों ने अंडरब्रिज का काम ठेकेदारों के भरोसे छोड़ दिया था। यही कारण है कि मरम्मत कराने के बाद भी सीपेज आने की समस्या शुरू हो गई है। हालांकि, अधिकारियों का कहना है कि मरम्मत का कार्य पूरा नही हुआ है।

सीपेज की यह वजह

अंडरब्रिज जमीन से करीब 10 फीट नीचे है। बारिश और सीवरेज का पानी सीपेज होकर आ रहा है। अधिकारी एक तरफ सीपेज बंद कर रहे हैं तो दूसरी जगह समस्या श्ाुरू हो जा रही है।

यह होगी समस्या

अंडरब्रिज का सीपेज बंद नहीं हो पाया तो अक्सर पानी भरा रहेगा। इससे एक तरफ जहां सड़क खराब होगी, तो वहीं दूसरी ओर अंडरब्रिज के जर्जर होने की संभावना बनी रहेगी।

रायपुर लोक निर्माण विभाग के ईई सीके पाण्डेय ने कहा, गुढ़ियारी अंडरब्रिज में जमीन के अंदर का पानी सीपेज हो रहा है। आने-जाने वालों को दिक्कत ना हो इसलिए उसे सुधारने का काम किया गया है।

फैक्ट फाइल-

- दो लाख की आबादी करती है सफर

- 27 लाख रुपये से हुआ है मरम्मत कार्य

- तीन महीने तक चला आवागम था बंद

- एक माह पहले ही शुरू हुआ यातायात

- छह वार्ड के लोगों को करता है प्रभावित

Posted By: Ashish Kumar Gupta

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close