रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रेडियो वार्ता लोकवाणी की चौथी कड़ी में प्रदेश में गिरते भूजल स्तर पर चिंता जताई। उन्होंने रेडियावार्ता के माध्यम से यह नियम लागू होने की जानकारी दी कि राज्य में अब उन्हीं नए भवनों को बिजली का कनेक्शन मिलेगा, जहां रेन वाटर हार्वेस्टिंग की यूनिट लगी होगी। सरकार ने सभी तरह के आवासीय, वाणिज्यिक और औद्योगिक परिसरों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग को अनिवार्य कर दिया है।

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि सरकार ने सैकड़ों एजेंसियों और स्व-सहायता समूहों को आगे किया है, जो एक माह के भीतर सभी जगहों पर रेन वाटर हार्वेस्टिंग की व्यवस्था करेंगे। मुख्यमंत्री ने लोकवाणी में 'नगरीय निकास का नया दौर" विषय पर प्रदेशवासियों को संबोधित करते हुए पानी पर ज्यादा फोकस किया।

उन्होंने कहा कि तालाब,नदी, नाले और जलप्रपातों का प्रदेश कहे जाने वाले छत्तीसगढ़ में लंबे अरसे से सही सोच और सही योजना के बिना निर्माण कराए गए हैं। गिरते भूजल स्तर का सबसे बड़ा कारण सीमेंट और कंक्रीट के जंगल की तरह शहरों का विकास किया जाना है। मौजूदा सरकार ने रेन वाटर हार्वेस्टिंग के लिए छह प्रकार कर दर निर्धारित की है। अब नरवा, गरूवा, घुरुवा, बाड़ी योजना से शहर को भी जोड़ा जा रहा है।

रायपुर में 212 करोड़ की जल आवर्धन योजना पर काम हो रहा है। बघेल ने मिनीमाता अमृतधारा जल, राजीव गांधी सर्वजल, मुख्यमंत्री चलित संयंत्र पेयजल, समूह पेयजल, सुपेबेड़ा जल योजना और सीवरेज मास्टर प्लांट के बारे में बताया। सीएम बोले- बरसों से लंबित खारून सफाई योजना को मंजूरी दी है। बस्तर की जीवनदायिनी इंद्रावती नदी के संरक्षण के लिए प्राधिकरण का गठन किया गया। बिलासपुर में अरपा नदी की सफाई का बड़ा अभियान जनभागीदारी के साथ चलाया गया है।

मुख्यमंत्री बोले

- पार्षद अपना मुखिया चुनेंगे, तो नगरीय विकास निर्बाध रूप से होगा। युवा महापौर बन सकेंगे।

- नगरीय निकायों के तालाब मछुआरा समितियों को दिए जाएंगे।

- जमीन की गाइडलाइन दर 30 फीसद कम और छोटे भूखंडों के क्रय-विक्रय से रोक हटने पर एक लाख सौदे हुए।

- आधुनिक बाजार व्यवस्था में छत्तीसगढ़ की बाजार व्यवस्था टूट रही थी, पौनी-पसारी योजना उसे फिर जोड़ेगी।

- मोर जमीन-मोर मकान योजना के तहत 11 माह में 40 हजार मकान बने हैं।

- मुख्यमंत्री स्लम स्वास्थ्य केंद्र और मुख्यमंत्री वार्ड कार्यालयों से बीमार, कुपोषित और जस्र्ररमंदों तक पहुंची सरकार।

- राज्योत्सव में पहली बार छत्तीसगढ़ के लोक कलाकारों का सम्मान बढ़ा।

Domestic violence : छत्‍तीसगढ़ में घरेलू हिंसा की शिकार आधी महिलाएं मामले ले रहीं वापस

Posted By: Hemant Upadhyay