रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

स्वास्थ्य विभाग के आदेश के बाद भी राजधानी समेत प्रदेश के तमाम क्वारंटाइन सेंटरों में मनोचिकित्सक और काउंसलर, संदेहियों की काउंसिलिंग नहीं कर रहे थे। मामले को लेकर लगातार शिकायत सामने आने के बाद नईदुनिया ने खबर प्रकाशित की। इसके बाद जिला स्वास्थ्य विभाग की नींद टूटी। जिले के क्वारंटाइन सेंटरों में मानसिक स्वास्थ्य सेवा देने के लिए कर्मी तैनात किए गए हैं। सीएमएचओ डॉ. मीरा बघेल ने मामले को संज्ञान में लेते हुए मनोचिकित्सक डॉ. अविनाश शुक्ला को मानसिक स्वास्थ्य परीक्षण के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किया है। डॉ. बघेल ने बताया कि राजधानी के आश्रय स्थलों में ठहरे हुए प्रवासी श्रमिकों को अवसाद, चिंता, बेचैनी और घबराहट से उबारने के लिए नियमित रूप से जिला मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत परामर्श दिया जाएगा। प्रवासी श्रमिकों के अलावा गर्भवती महिलाओं के साथ 50 से अधिक छोटे बच्चे भी हैं। कोरोना वायरस के संक्रमण को ध्यान में रखते हुए प्रवासी श्रमिकों का मानसिक तनाव दूर करने के संबंध में 31 मार्च को उच्चतम न्यायालय ने जागरूकता कार्यक्रम चलाने का आदेश दिया था। न्यायालय के आदेश पर क्वारंटाइन केंद्र में रखे गए प्रवासी श्रमिकों को मानसिक तनाव दूर करने के टिप्स दिए जा रहे हैं। डॉ. बघेल ने बताया कि क्वारंटाइन सेंटरों में श्रमिकों की काउंसिलिंग कर उन्हें क्वारंटाइन सेंटर में साफ-सफाई, सोशल डिस्टेंसिंग और आपसी व्यवहारिक वातावरण बनाने की सलाह दी जा रही है।

गर्भवती मां की चिंता, बच्चा न हो जाए संक्रमित

इधर राधास्वामी सत्संग भवन क्वारंटाइन सेंटर में नौ माह की गर्भवती महिला और पति ने कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर बच्चे के स्वास्थ्य पर होने वाले प्रभाव को लेकर चिंता जाहिर की। इस पर स्वास्थ्य विभाग के मनोवैज्ञानिक ने काउंसिलिंग कर उसका तनाव दूर किया।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना