रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। Musical Instruments: पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस की महंगाई से त्रस्त उपभोक्ताओं को अब गाने-बजाने का शौक भी महंगा पड़ रहा है। पिछले साल की तुलना में इस साल अधिकांश सभी वाद्य यंत्रों की कीमतों में पांच से दस फीसद तक की बढ़ोतरी हो गई है। कारोबारियों की मानें, तो आने वाले दिनों में वाद्य यंत्रों की कीमतों में थोड़ी और बढ़ोतरी हो सकती है। अब स्थिति थोड़ी सुधरने लगी है, तो वाद्य यंत्रों की मांग भी बढ़ने लगी है और कारोबार भी थोड़े सुधार की ओर आ रहा है।

वाद्य यंत्र कीमत (अगस्त 2020) कीमत (अगस्त 2021)

गिटार 4000 रुपये 4200-4300 रुपये

की बोर्ड 3500 रुपये 3700-3800 रुपये

ढोलक 2500 रुपये 2700-2800 रुपये

आर्गन 4000 रुपये 4300- 4500 रुपये

ड्रम 20000 रुपये 21000-22000 रुपये

पेटी 7000 रुपये 7500 रुपये

माइक 2500-3000 रुपये 2800-3300 रुपये

ये माने जा रहे कारण

1. पेट्रोल-डीजल की महंगाई से माल मंगाना महंगा हुआ है

2. उत्पादन लागत में भी थोड़ी बढ़ोतरी हुई

3. लॉकडाउन के दौरान चीन से माल नहीं आने के कारण थोड़ी किल्लत की स्थिति हो गई और उसके चलते भी दाम बढ़े

2020 रहा फीका अब पकड़ने लगी रफ्तार

कारोबारी प्रवीण शर्मा ने बताया कि कोरोना के प्रभाव के चलते बीते साल 2020 तो पूरी तरह से फीका रहा। कारोबार फीका रहने का प्रमुख कारण यह भी रहा कि टीवी में आने वाले रियल्टी शो भी कम हो गए। साथ ही शादी पार्टी या किसी अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रम होने ही बंद हो गए। इसका प्रभाव से ही कारोबार ठप हो गया और अब एक बार फिर से मांग जोर पकड़ने लगी है। विशेषकर गिटार और माइक की मांग एक बार फिर से बढ़ गई।

Posted By: Shashank.bajpai

NaiDunia Local
NaiDunia Local