रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि गणेश की झांसी निकालने के दौरान 14 सितंबर को हुए गणेशोत्सव में मुख्यमंत्री के आयोजन में ही एनएसयूआइ के कार्यकर्ताओं को पुलिस ने मंच तक जाने नहीं दिया। आरोप है कि कार्यकर्ताओं के साथ पुलिस ने दुर्व्यवहार करते हुए जेल में सड़ाने की धमकी दी। मामले में एनएसयूआइ के उपाध्यक्ष भावेश शुक्ला ने गंभीरता दिखाते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से शिकायत की है। भावेश शुक्ला ने बताया कि वे अपने साथी एनएसयूआइ के कार्यकर्ता शांतनु झा, अरुणेश मिश्रा आदि के साथ मंच के पास खड़े थे, तभी सिटी कोतवाली सीएसपी त्रिलोक बंसल ने कार्यकर्ताओं के साथ गाली-गलौज की। भावेश का आरोप है कि जब सीएसपी से इसकी आपत्ति की गई और बताया गया कि वे सभी एनएसयूआइ पदाधिकारी हैं, इसके बाद भी पुलिस अफसर ने दुर्व्यवहार किया। भावेश शुक्ला ने मुख्यमंत्री से सिटी एएसपी प्रफुल्ल ठाकुर की भी शिकायत करते हुए आरोप लगाया है कि उक्त अफसर ने घर से उठवाकर जेल में डालकर सड़ाने की धमकी दी थी। बहरहाल एनएसयूआइ ने मामले में उक्त अफसरों पर कार्रवाई की मांग की है।

यह है मामला

गौरतलब है कि जयस्तंभ चौक पर गणेश झांकी के दौरान एनएसयूआइ के कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच झड़प हुई थी। यह घटना उस समय हुई थी जब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल , रायपुर-पश्चिम विधायक विकास उपाध्याय गणेश झांकी के स्वागत मंच पर पहुंचे। इस दौरान प्रदेश के एनएसयूआइ के कार्यकर्ता मुख्यमंत्री के स्वागत के लिए मंच की ओर बढ़े तब सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों ने एनएसयूआइ के कार्यकर्ताओं को रोका। एनएसयूआइ का आरोप है कि उनके साथ दुर्व्यवहार किया गया। इस घटना के बाद एनएसयूआइ कार्यकर्ता खुद को आहत महसूस कर रहे हैं।