आकाश शुक्ला. रायपुर (नईदुनिया)। छत्‍तीसगढ़ राज्य में आनलाइन व बाजारों से कोरोना जांच किट की मांग शासन के लिए चिंता का विषय बन गया है। जहां बढ़ते संक्रमण के बीच प्रदेश में हर दिन 5,000 कोरोना जांच किट आनलाइन आर्डर हो रहे हैं। वहीं दवा दुकानों में प्रतिदिन 10,000 कोरोना जांच किट की मांग है। अब बड़ी संख्या में इस तरह से जांच के बाद कोरोना मरीजों की मानिटरिंग व राज्य में संक्रमण की वास्तविक स्थिति स्पष्ट नहीं हो पा रहा है।

समस्या को लेकर राज्य औषधि नियंत्रक ने केंद्रीय औषधि महानियंत्रक को पत्र लिखा है। उन्होंने आनलाइन कोरोना किट विक्रय पर रोक लगाने या शासन को विक्रय के संबंध में पूरी जानकारी कंपनियों द्वारा उपलब्ध कराए जाने की बात कही है। ताकि राज्य में कोरोना से जुड़े सही आंकड़े स्पष्ट हो सके। इधर औषधि विभाग के निर्देश के बाद प्रत्येक दवा दुकानाें को किट की खरीदी-बिक्री के संबंध में पूरी जानकारी रखने के निर्देश दिए गए हैं। खुदरा दवा दुकानों में कोरोना किट खरीदने लाने वालों के आधार कार्ड व संबंधित जानकारी भी लेना अनिवार्य किया गया है। लेकिन थोक दवा बाजार में किट विक्रय के संबंध में कई व्यापारियों के पास जानकारी ही नहीं है।

15,000 कोरोना जांच का रिकार्ड नहीं

स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक प्रदेश में जांच केंद्रों, प्राइवेट अस्पताल व लैब में किए जा रहे कोरोना जांच के रिकार्ड और संक्रमितों की जानकारी है। लेकिन दवा दुकानों व आनलाइन कोरोना टेस्ट किट खरीदकर जांच करने वालों के कोई रिकार्ड नहीं है। ऐसे में सेल्फ जांच को लेकर बनती स्थिति पर गौर किया जाए तो प्रदेश में संक्रमित मरीजों की संख्या सरकारी आंकड़ों से कही अधिक हो सकती है।

व्यापारियों ने की शिकायत

आनलाइन किट मंगाकर कोरोना जांच को लेकर जिला दवा व्यापारी संघ ने औषधि प्रशासन में शिकायत दर्ज कराई है। संघ के अध्यक्ष विनय कृपलानी, सचिव लोकश साहू ने बताया कि प्रशासन द्वारा खुदारा दवा व्यापारियों को कोरोना जांच किट विक्रय पर उपभोक्ता की पूरी जानकारी रखने के निर्देश दिए हैं। इसका पालन भी किया जा रहा है। लेकिन आनलाइन माध्यमों से कंपनियां कोरोना जांच किट उपलब्ध करा रही है। प्रदेश में हर दिन 5,000 से अधिक किट की मांग है। ऐसे में सभी के लिए एक व्यवस्था लागू हो।

घर पर जांच, दवा लेने पहुंच रहे मेडिकल

केस-1 : न्यू सिटी मेडिकल स्टोर के संचालक राकेश अग्रवाल ने बताया कि कोरोना के इलाज में उपयोगी दवाएं खरीदने आए एक उपभोक्ता ने बताया कि उन्होंने आनलाइन किट आर्डर कर जांच किया था। उनके घर के सदस्य की रिपोर्ट पाजिटिव आई है।

केस-2 : महालक्ष्मी मेडिकल स्टोर के संचालक जीआर साहू ने बताया कि कोरोना इलाज में उपयोगी दवाएं खरीदने हर रोज ग्राहक आते हैं। इनमें कुछ लोगों ने आनलाइन कोरोना जांच किट मंगाकर सेल्फ जांच करने की बात स्वीकारी।

राज्य में कोरोना जांच और पाजिटिविटी दर

जनवरी - जांच - पाजिटिविदी दर

17 - 38,064 - 12.02%

18 - 50,258 - 11.17%

19 - 54,600 - 10.30%

20 - 52,411 - 10.78%

21 - 47,124 - 10.67%

आनलाइन विक्रय की जानकारी देने या रोक लगाने पर लिखा पत्र

मेडिकल स्टोर में कोरोना जांच किट विक्रय की जानकारी रखने निर्देश दिए गए हैं। वहीं कोरोना जांच किट आनलाइन विक्रय को लेकर केंद्रीय औषधि महानियंत्रक को पत्र लिखा गया है। इसमें कंपनियों द्वारा कोरोना जांच किट आनलाइन विक्रय की जानकारी देने या इन पर रोक लगाने को कहा गया है। -केडी कुंजाम, राज्य औषधि नियंत्रक

Posted By: Kadir Khan

NaiDunia Local
NaiDunia Local