रायपुर। नईदुनिया, प्रतिनिधि

खम्हारडीह ओवरब्रिज के लिए शासन ने मंजूरी नहीं दी है। इसलिए ओवरब्रिज का काम शुरू नहीं हो रहा है। इससे पब्लिक को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। शासन के इस निर्णय से भावना नगर सेलटेक्स कॉलोनी कचना और खम्हारडीह के रहवासियों में काफी आक्रोश देखने को मिल रहा है। क्योंकि ओवरब्रिज न होने से जहां लोग समय पर ऑफिस नहीं पहुंच पा रहे हैं तो वहीं रेलवे क्रॉसिंग बंद होने से आए दिन बच्चों को स्कूल जाने में लेट हो जाता है। रहवासियों का कहना है कि यदि शासन ओवरब्रिज को मंजूरी नहीं देगा तो ट्रेन रोककर आंदोलन करने की चेतावनी दी है। जनप्रतिनिधियों ने कहा कि ये पब्लिक से जुड़ा मामला है। इसलिए शासन से दोबारा चर्चा कर इसे शुरू किया जाएगा।

ज्ञात हो कि खम्हारडीह रेलवे क्रॉसिंग पर 88 करोड़ 75 लाख रुपये की लागत से 865 मीटर लंबी और 13 मीटर चौड़ी ओवरब्रिज बनाने का शासन ने निर्णय लिया था। क्योंकि खम्हारडीह रेलवे क्रॉसिंग पर एक दिन में करीब 150 से 170 ट्रेनें मालगाड़ी एवं यात्री गाड़ियां मिलाकर गुजरती है। ट्रेन के गुजरने के पांच मिनट पहले रेलवे क्रॉसिंग को बंद कर दिया जाता है। पटरी पार करने में यात्रियों को 15 मिनट तक का समय लग जाता है। शासन ने इसे पास कर दिया था लेकिन इसे मंजूरी नहीं दी है। स्थानीय रहवासियों का कहना है कि पिछली सरकार में ही ओवरब्रिज के निर्माण का काम पूरा हो जाता क्योंकि ओवरब्रिज के लिए विभाग द्वारा नाप की प्रक्रिया पूरी कर ली गई थी। लेकिन तत्कालीन सरकार के वरिष्ठ नेता बिल्डरों से चंदा मांग रहे थे, लेकिन बिल्डरों द्वारा चंदा नहीं दिया गया, इस कारण ओवरब्रिज के काम को रोक दिया गया था।

12 घंटे में गुजरती है करीब 21 हजार गाड़ियां

खम्हारडीह रेलवे क्रॉसिंग पर प्रति दो सेकंड में एक वाहन गुजरती है। यदि हम बारह घंटे की बात करें तो करीब 21 हजार गाड़ियां यहां से गुजरती है। लोगों ने बताया कि वाल्टियर लाइन को डबल किया जा रहा है। ऐसे में रेलवे क्रॉसिंग और जल्दी बंद होंगे। वर्मतान में करीब रेलवे क्रॉसिंग से गुजरने वाले हर व्यक्ति का रोजाना 10-15 मिनट खराब हो रहा है। यही नहीं, क्रॉसिंग के कारण वाहनों के भी 7 से 10 फीसद तक ज्यादा ईंधन जल रहे हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए हर क्रॉसिंग पर सहूलियत के हिसाब से ओवरब्रिज और अंडरब्रिज बनाना है, ताकि लोगों को राहत मिल सके।

ओवरब्रिज बनने से इन मुहल्लेवासियों को मिलेगा फायदा

इस ओवरब्रिज से खम्हारडीह, कचना के आसपास के इलाके जैसे वीआइपी स्टेट, अशोका रतन, कचना हाउसिंग बोर्ड, पिरदा बाराडेरा, जोरा, चंडीनगर, पार्वती नगर और भावना नगर की बड़ी आबादी को सीधे फायदा मिलता

आइये जानते हैं क्या कहना है स्थानीय रहवासियों का

- कचना की तरफ बड़ी-बड़ी कॉलोनियां बन रही है। पटरी के इस पार रहने वालों की संख्या में लगाता वृद्धि हो रही है। वाल्टियर लाइन पर दिनभर मालगाड़ी और यात्री गाड़ियों का आना जाना बना रहता है। बच्चों को स्कूल ले जाते समय अक्सर रेलवे क्रॉसिंग बंद रहती है। इससे बच्चों को स्कूल पहुंचने में करीब 15 मिनट लेट हो जाता है।

- सुभ्रत घोष

- अक्सर रेलवे क्रॉसिंग बंद रहती है। इस कारण लोगों को ट्रेन जाने तक इंतजार करना पड़ता है। कभी-कभी मेडिकल इमरजेंसी में भी गेट खुलने का इंतजार करना पड़ता है। इससे लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।- रामअधार यादव

- कचना में रियल स्टेट की अलग-अलग कॉलोनियां बन रही है। इस कारण इस क्षेत्र में जनसंख्या दिन ब दिन बढ़ते जा रही है। फाटक बंद होने से लोगों को 15 मिनट तक इंतजार करना पड़ता है। फाटक खुलने पर अक्सर हादसे की भी अशंका बनी रहती है। दुर्घटनाएं न हो इसलिए ओवरब्रिज सबसे जरूरी है। - भोला चौधरी

- दैनिक उपयोग में आने वाली चीजें भी पटरी के उस पार में मिलती हैं। लेकिन पटरी बंद होने से बहुत दिक्कत होती है। बच्चों को अक्सर स्कूल जाने में लेट हो जाता है।-प्रिया बंधानी

- ओवरब्रिज नहीं बना तो पब्लिक बहुत सी सुविधाओं से वंचित हो जाएगा। क्योंकि बलौदाबाजार, विधानसभा जाने वाले लोग इस रोड से होकर ही जाते हैं। इस कारण रोड पर दबाव बढ़ रहा है। इसलिए ओवरब्रिज जरूरी है।

- संतोष कुमार

जनप्रतिनिधियों ने कहा

- खम्हारडीह में बनने वाला ओवरब्रिज शासन ने मंजूरी नहीं दी है। इस संबंध में शासन से दोबारा चर्चा की जाएगी। मंत्री जी का ध्यान इस तरफ आकर्षित करूंगा।

सत्यनरायण शर्मा, विधायक, रायपुर ग्रामीण विधानसभा

- मैं दिनभर से बाहर हूं, मुझे अभी इस संबंध में कोई जानकारी नहीं है। लेकिन इस मामले में बात करूंगा। जनता की लड़ाई है मैं इसमें उनके साथ रहूंगा। जनता की सुविधा के लिए बेहतर काम किया जाएगा।- कुलदीप जुनेजा, विधायक, रायपुर उत्तर विधानसभा

- आज सुबह से ही मुहल्ले में ओवरब्रिज नामंजूर किए जाने की चर्चा है। भावना नगर, सेलटेक्स कॉलोनी, और कचना के लोग सुबह ही मेरे पास आए थे। मैं इस मामले में सीएम के जनदर्शन में जाकर चर्चा करेंगे। दिशा घोत्रे स्थानीय पार्षद