रायपुर। Chhattisgarh Paddy Procurement: रायपुर जिले में अभी भी शत प्रतिशत धान का उठाव नहीं हो सका है। स्थिति यह है कि सोसायटियों में रखे धान सिर्फ तिरपाल के भरोसे हैं। कई सोसायटियों में तिरपाल के कमी के कारण धान भींग भी रहे हैं। हालात ऐसे है कि जिले के आरंग ब्लाक के सोसायटियों में धान सड़ने की शिकायत भी सामने आ रही है। फिर अधिकारियों का इस ओर ध्यान भी नहीं दिया जा रहा है।

15 हजार मीट्रिक टन धान का उठाव नहीं

कृषि विपणन अधिकारी संतोष पाठक ने बताया कि रायपुर जिले में 15 हजार मीट्रिक टन का धान का उठाव नहीं नहीं हो सका है। उनका कहना है कि राइस मिलर्स को इस संबंध में जल्द ही धान का उठाव करने को कहा है। इधर अधिकारियों का कहना है कि बारिश को देखते हुए सोसायटियों में पर्याप्त मात्रा त्रिफल की व्यवस्था की गई है।

कहीं से अभी ज्यादा नुकसान होने की खबर नहीं है। वहीं जिले में आरंग ब्लाक के भानसोज, नारा, पलौद, फरफौद जैसे कई बड़े समितियों में अभी धान रखा हुआ है। इधर, रायपुर जिले में इस साल रिकार्ड चार लाख 68 हजार 276 मीट्रिक टन धान पंजीकृत किसानों से समर्थन मूल्य में खरीदी की है।

कलेक्टर ने भी जताई धान उठाव की धीमी गति को लेकर नाराजगी

बीते दिनों कलेक्टर सौरभ कुमार ने धान उठाव की धीमी गति को लेकर नाराजगी जताई थी। उन्होंने खाद्य, सहकारिता, जिला सहकारी बैंक मार्कफेड के अधिकारियों की बैठक लेकर धान के उठाव में गति लाने के निर्देश दिए थे। फिर भी जिले में अभी तक धान का उठाव नहीं हो सका है। दूसरी ओर कलेक्टर ने कहा कि कस्टम मिलिंग कार्य में रुचि नहीं लेने वाले राइस मिलर्स कार्रवाई की जाए, लेकिन अभी तक इन राइस मिलर्स पर कार्रवाई नहीं हो सकी है।

Posted By: Shashank.bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags