रायपुर। Chhattisgarh Paddy Procurement : फसल लगाने के लिए पैसों का जुगाड़, फिर खेत की तैयारी और उसके बाद जी तोड़ मेहनत। फिर खेतों में लहलहाती फसल की खुशी। इन सब के बाद आज किसानों के लिए वह दिन आ गया है जब उनकी तैयार फसल के बूते उन्हें मेहनत की कमाई मिलेगी। राज्य भर के किसान अपने जिलों में स्थापित समितियों के धान खरीदी केंद्रों में समर्थन मूल्य पर अपना धान बेचने के लिए इकट्ठे हो रहे हैं। किसानों में उत्साह है, चेहरों पर खुशी है, लेकिन बारदानों की कमी की बात से वे थोड़े परेशान भी हैं। बहरहाल प्रशासन का दावा है कि व्यवस्था बना ली गई है और किसान हर हाल में मंडी में अपना धान बेच कर ही घर जाएंगे।

प्रदेश सहित रायपुर जिले में आज से समर्थन मूल्य पर धान खरीदी की प्रक्रिया शुरू की गई है। समिति केंद्रों पर सुबह से ही टोकन पा चुके किसान धान बेचने के लिए परिवार सहित पहुंच गए थे। रायपुर जिले की 137 समिति केंद्रों में धान खरीदी किया जा रहा है। इसके लिए लगभग 3000 किसानों को विभिन्न सेंटरों के माध्यम से टोकन वितरण किया गया है। जिससे खरीदी की पहले दिन लगभग एक लाख 74 हजार क्विंटल धान खरीदने का लक्ष्य रखा गया है। ज्ञात हो कि इस बार बार दाने को लेकर समस्या देखी जा रही है, वहीं जूट के बार दाने की कमी को पूरा करने के लिए शासन ने पहली बार कोलकाता से प्लास्टिक के बाहर दाने मंगाए हैं। जिसकी पहली खेप रायपुर में सप्लाई की गई है।

नए और पुराने दोनों बारदानों का होगा उपयोग

कोरोना के कारण बार दाने की सप्लाई समय पर नहीं हो पाई है। जैसे शासन ने 2020 21 की धान खरीदी में बार दाने को लेकर बदलाव किया है। समिति केंद्रों पर निर्देश दिया गया है कि 50 फीसद पुराने और 50 फीसद नए *बारदाने का उपयोग किया जाए।

Posted By: Himanshu Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस